News

मूवी रिव्यूः ' स्टार वार्स: द फोर्स अवेकन्स '

Created at - December 31, 2015, 6:03 pm
Modified at - December 31, 2015, 6:03 pm

फिल्म ‘स्टार वार्स: द फोर्स अवेकन्स’ 12 साल बाद आयी ‘स्टार वार्स’ सीरीज की 7वीं फिल्म है। इस फिल्म के डायरेक्टर जेजे अबराम्स ने डायरेक्ट किया है। इससे पहले इसकी सीरीज की पिछली फिल्म ‘स्टार वार्स 3 : रिवेन्ज ऑफ दि सिथ’ (2005) में आई थी। इस फिल्म की अब तक की कुल कमाई 1 अरब पहुंच गई है।कहानीः लगभग तीस साल पहले ल्यूक स्काईवाकर (मार्क हैमिल) के रहस्यमयी ढंग से गायब होने के बाद फर्स्ट ऑर्डर का उदय हुआ है, जिसके चलते गैलेटिक एम्पायर का तानाशाह रवैया जारी है। दूसरे डेथ स्टार (एक चलता-फिरता अंतरिक्ष स्टेशन) और अंतिम जेदाई रहे ल्यूक और उसके गणराज्य के लोगों को ढूंढ-ढूंढ कर खत्म किया जा रहा है। ल्यूक की बहन ओर्गाना, गणराज्य से समर्थन मिलने के बाद इस तानाशाही का विरोध कर रही है। इस लड़ाई पर ही यह फिल्म आधारित है। इस सीरिज को युवाओं से जोड़े रखने के लिए ही रे (डेजी रिडली) और स्ट्रॉमट्रॉपर फिन (जॉन बोयेगा) जैसे किरदारों को लिया गया है। प्रतिरोध कर रहे गुरिल्ला समूह के पायलट पो डैमरॉन (ऑस्कर आईजैक) को काएलो रेन (एडम ड्राइवर)द्वारा भेजे गये स्ट्रॉमट्रापर्स द्वारा पकड़ लिया जाता है। डैमरॉन, यहां ल्यूक की खोज में आया है। यहां डैमरान को एक छोटा गेंदनुमा रोबोट बीबी-8 मिलता है, जिसके पास वो नक्शा है। कैद होने के बाद डैमरान, काएलो के एक स्ट्रामट्रॉपर फिन (जॉन बोयेगा) की मदद से गैलेटिक एम्पायर से भाग निकलता है। दोनों एक अंतरिक्ष से भागते हैं, लेकिन उनका ये यान जाकू ग्राह के पास दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है और इसके बाद डैमरान भी गायब हो जाता है।फिल्म की सबसे बड़ी ताकत उसका फिल्मांकन है। निर्देशक जेजे अबराम्स की सबसे बड़ी ताकत उनके कहानी कहने के अंदाज को माना जाता है, जिसे उन्होंने इस फिल्म में बखूबी दिखाया है। फिल्म में पात्रों की वेषभूषा पर खासा काम किया गया है।


Download IBC24 Mobile Apps