राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार के लिए चुना जाना बिहार के लिए बड़ी कामयाबी : शाहनवाज |

राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार के लिए चुना जाना बिहार के लिए बड़ी कामयाबी : शाहनवाज

राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार के लिए चुना जाना बिहार के लिए बड़ी कामयाबी : शाहनवाज

: , June 27, 2022 / 09:12 PM IST

पटना, 27 जून (भाषा) उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने सोमवार को कहा कि उद्योग के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहे बिहार का राष्ट्रीय एमएसएमई अवार्ड, 2022 के द्वितीय पुरस्कार के लिए चुना जाना इस प्रदेश के लिए राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी कामयाबी है।

पटना में पत्रकारों को संबोधित करते हुए हुसैन ने कहा कि उद्योग के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ रहे बिहार का राष्ट्रीय एमएसएमई अवार्ड, 2022 के द्वितीय पुरस्कार के लिए चुना जाना इस प्रदेश के लिए राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी कामयाबी है।

उन्होंने कहा कि 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों दिये जाने वाले राष्ट्रीय एमएसएमई अवार्ड, 2022 के लिए चुने गये राज्यों भें बिहार भी शामिल है।

हुसैन ने कहा कि बिहार को राज्य और संघ शासित प्रदेशों में

एमएसएई क्षेत्र के प्रोत्साहन और विकास के लिए किये गये उत्कृष्ट कार्यो की श्रेणी में राष्ट्रीय एमएसएमई अवार्ड, 2022 के द्वितीय पुरस्कार के लिए चुना गया है।

हुसैन ने कहा कि बिहार कें औद्योगिकीकरण का पूरा दारोमदार सूक्ष्म, लधु और मझोले उद्योग (एमएसएमई) क्षेत्र पर है।

उन्होंने कहा कि बिहार में पिछले डेढ साल में करीब 36 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव आये हैं, उनमे से ज्यादातर एमएसएमई के दायरे में आते हैं।

हुसैन ने कहा कि पिछले डेढ़ साल के दौरान बिहार में छोटे-बड़े उद्योगों की स्थापना और राज्य में उद्योगों क॑ विकास के लिए बेहतरीन माहौल तैयार करने के लिए काफी कोशिशें की गयी हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य के औद्योगिकीकरण की इन कोशिशों में युवाओं को भी बड़ा भागीदार बनाने के लिए मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं के तहत अत्यंत प्रभावी कदम उठाया गया। वित्त वर्ष 2021-22 के लिए मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं के लिए 16 हजार लाभार्थियों का चयन किया गया जिन्हें कुल 10 लाख रूपये की रकम (पांच लाख रुपये अनुदान और पांच लाख रुपये मामूली ब्याज पर ऋण) दी जा रही है।

उन्होंने कहा कि आज बिहार के हर जिले में मुख्यमंत्री उद्यमी योजनओं के लाभार्थियों को प्रशिक्षण देकर उद्यम शुरू करने के लिए 10 लाख रुपये की राशि दो किस्‍तों में दी जा रही है। इससे राज्य में उद्यमिता के विकास का शानदार माहौल बना है।

भाषा अनवर

रंजन अजय

अजय

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga