ओईसीडी ने चालू वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर को 6.9 प्रतिशत पर कायम रखा |

ओईसीडी ने चालू वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर को 6.9 प्रतिशत पर कायम रखा

ओईसीडी ने चालू वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर को 6.9 प्रतिशत पर कायम रखा

: , November 29, 2022 / 08:33 PM IST

नयी दिल्ली, 26 सितंबर (भाषा) वैश्विक संगठन आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (ओईसीडी) ने सोमवार को चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के वृद्धि पूर्वानुमान को 6.9 प्रतिशत पर बरकरार रखा है। उसने कहा कि कमजोर वैश्विक परिदृश्य के बावजूद भारत की वृद्धि दर मजबूत रहेगी।

ओईसीडी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में भारत की वृद्धि दर 6.9 प्रतिशत रहने की संभावना है। ओईसीडी ने अपने अंतरिम आकलन में कहा, ‘वित्त वर्ष 2022-23 में भारत की वृद्धि दर सात प्रतिशत के करीब रहने के पीछे नरम बाह्य मांग भी एक कारण है। लेकिन इसके बावजूद यह कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारत की तीव्र वृद्धि को दर्शाता है।’

इस आर्थिक संगठन ने इसके पहले जून में जारी अपने आर्थिक परिदृश्य में भी भारत की वृद्धि दर 6.9 प्रतिशत रहने की संभावना जताई थी।

हालांकि यह अनुमान चालू वित्त वर्ष के लिए जताए गए भारतीय रिजर्व बैंक के 7.2 प्रतिशत के पूर्वानुमान से कम है। पिछले वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर 8.7 प्रतिशत रही थी।

इसके साथ ही ओईसीडी ने भारत की मुद्रास्फीति 6.7 प्रतिशत रहने का भी पूर्वानुमान जताया है।

ओईसीडी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद पैदा हुई स्थिति में वैश्विक अर्थव्यवस्था की रफ्तार मंद हुई है। इसकी वजह से दुनिया भर में मुद्रास्फीति को लेकर भारी दबाव देखा जा रहा है।

संगठन ने कैलेंडर वर्ष 2022 में वैश्विक अर्थव्यवस्था के तीन प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान जताया है जबकि अगले साल इसके सिर्फ 2.2 प्रतिशत रहने की भी आशंका जताई है।

इस रिपोर्ट में चीन की वृद्धि दर के इस साल सिर्फ 3.2 प्रतिशत रहने का भी अनुमान जताया गया है। चीन के लिए यह कोविड काल को छोड़कर 1970 के दशक के बाद की सबसे कम वृद्धि दर होगी।

भाषा प्रेम

प्रेम रमण

रमण

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)