छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल

छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल

Edited By: , October 16, 2021 / 12:25 AM IST

जशपुर, 15 अक्टूबर (भाषा) छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक तेज रफ्तार कार की चपेट में आने से दुर्गा प्रतिमा विसर्जन करने जा रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई तथा 17 अन्य घायल हो गए। पुलिस ने कार सवार युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस अधीक्षक ने घटना के बाद थाना प्रभारी समेत दो पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है। वहीं जिलाधिकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मृतक के परिजनों को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है।

जशपुर जिले के पुलिस अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि जिले के पत्थलगांव में तेज रफ्तार कार ने दुर्गा प्रतिमा विसर्जन करने जा रहे ग्रामीणों को कुचल दिया। इस घटना में गौरव अग्रवाल (21) की मौत हो गई तथा 17 अन्य घायल हो गए।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने कार सवार मध्य प्रदेश निवासी बबलू विश्वकर्मा (21) और शिशुपाल साहू (26) को गिरफ्तार कर लिया है। कार सवारों पर आरोप है कि वह वाहन से गांजा की तस्करी कर रहे थे।

जशपुर जिले के पुलिस अधीक्षक विजय अग्रवाल ने बताया कि आज दोपहर बाद करीब डेढ़ बजे पत्थलगांव में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के लिए जुलूस निकाला गया था। जुलूस जब कस्बे के इंदिरा चौक के करीब था तब मध्य प्रदेश नंबर का एक जाइलो वाहन जुलूस को रौंदते हुए निकल गया।

अग्रवाल ने बताया कि इस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई है तथा दो गंभीर रूप से घायल हैं। वहीं 15 अन्य लोगों को हल्की चोटें आई है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद घटनास्थल के लिए पुलिस दल रवाना किया गया तथा घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। घटना में गंभीर रूप से घायल दो लोगों को बेहतर इलाज के लिए रायगढ़ भेजा गया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि घटना के बाद पत्थलगांव के थाना प्रभारी संता अयाम को लाइन हाजिर कर दिया गया है तथा सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) केके साहू जिसे लेकर ग्रामीणों ने काफी शिकायत की थी, उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। पुलिस ने इस मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) और धारा 304 के तहत मामला दर्ज किया है।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने घटना के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है तथा उनसे पूछताछ की जा रही है।

राज्य के जनसंपर्क विभाग के ​अधिकारियों ने जशपुर जिले के जिलाधिकारी रितेश अग्रवाल का वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में अग्रवाल ने बताया है कि मुख्यमंत्री बघेल ने मृत युवक के परिजनों के लिए 50 लाख रुपये के मुआवजा की घोषणा की है। वहीं घटना में घायल लोगों को बेहतर इलाज कराने के निर्देश दिए गए हैं।

इससे पहले पुलिस अधिकारियों ने बताया था कि पत्थलगांव में बाजारपारा से दुर्गा प्रतिमा को विसर्जित करने के लिए विसर्जन जुलूस निकाला गया था। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में लोग वहां एकत्र थे। जब लोग सड़क पर थे तब एक तेज रफ्तार कार वहां पहुंची और लोगों को रौंदते हुए निकल गई।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि घटना के बाद लोगों ने कार का पीछा किया और कुछ दूरी पर कार को रोक लिया गया। भीड़ ने कार सवार युवकों को पुलिस के हवाले कर दिया। वहीं कार में आग लगा दी गई। घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया था।

मुख्यमंत्री बघेल ने जशपुर की घटना पर दुख जताया है। बघेल ने ट्वीट कर कहा है, ‘‘जशपुर की घटना बहुत दुखद और हृदयविदारक है। दोषियों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया है। प्रथमदृष्टया दोषी दिख रहे पुलिस अधिकारियों पर भी कार्रवाई हुई है। जांच के आदेश दिए गए हैं। कोई भी बख्शा नहीं जाएगा। सबके साथ न्याय होगा। ईश्वर दिवंगत व्यक्ति की आत्मा को शांति दे। घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करता हूँ।’’

इस बीच जशपुर जिले की इस घटना का सोशल मीडिया में वीडियो भी वायरल हो गया है। इस वीडियो में एक लाल रंग की तेज रफ्तार कार भीड़ को कुचलते हुए आगे बढ़ जाती है। वहीं अन्य वीडियो में आक्रोशित ग्रामीण और जलती हुई कार है।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया है और कहा है, ‘‘ये वीडियो बेहद दर्दनाक है। छत्तीसगढ़ में नशा माफियाओं के हौसले बुलंद हो गए हैं, अब क्या धार्मिक जुलूस निकालने वालों को ऐसे ही कुचल दिया जाएगा। जशपुर एसपी को तत्काल हटाया जाए। मृतक के परिजनों को 50 लाख रुपये का मुआवजा और घायलों के इलाज की तुरंत व्यवस्था की जानी चाहिए।’’

भाषा सं संजीव संजीव देवेंद्र

देवेंद्र