प्रधानमंत्री मोदी ने हिमाचल प्रदेश में फूंका चुनावी बिगुल |

प्रधानमंत्री मोदी ने हिमाचल प्रदेश में फूंका चुनावी बिगुल

प्रधानमंत्री मोदी ने हिमाचल प्रदेश में फूंका चुनावी बिगुल

: , November 29, 2022 / 08:02 PM IST

(फोटो के साथ)

बिलासपुर (हिमाचल प्रदेश), पांच अक्टूबर (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश में बुधवार को चुनावी बिगुल फूंकते हुए कहा कि पिछली सरकारें परियोजनाओं की नींव रखती थीं और चुनाव के बाद उन्हें पूरा करना भूल जाती थीं।

राज्य के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यहां आयोजित एक रैली में प्रधानमंत्री को एक पारंपरिक वाद्य यंत्र ‘रणसिंघा’ भेंट किया। मोदी ने इसे फूंककर ‘रणभेरी’ बजाई और बाद में कहा, ‘‘यह भविष्य की प्रत्येक जीत की शुरुआत का प्रतीक है।’’

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार न केवल शिलान्यास करती है, बल्कि विकास परियोजनाओं का उद्घाटन भी करती है।

मोदी यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और हाइड्रो इंजीनियरिंग कालेज का उद्घाटन करने के बाद लुहनू मैदान में एक रैली को संबोधित कर रहे थे। इन संस्थानों की आधारशिला मोदी ने ही 2017 में रखी थी।

प्रदेश में अगले दो महीने के बाद विधानसभा चुनाव होने की संभावना है।

हिमाचल प्रदेश में भाजपा सरकार को इस साल के अंत से पहले विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता में वापसी की उम्मीद है।

मोदी कार्यक्रम के बाद दशहरा समारोह देखने कुल्लू रवाना हो गए।

प्रधानमंत्री 24 सितंबर को राज्य के मंडी का दौरा करने वाले थे, लेकिन खराब मौसम के कारण वह रैली स्थल पर नहीं जा सके। तब उन्होंने इसे डिजिटल माध्यम से संबोधित किया था।

मोदी ने आज कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज के उद्घाटन के साथ बिलासपुर को विकास का ‘दोहरा उपहार’ मिला है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं सौभाग्यशाली हूं कि हिमाचल प्रदेश की विकास यात्रा का हिस्सा रहा हूं।’’

उन्होंने कहा कि राज्य में विकास इसलिए संभव हुआ है, क्योंकि यहां के लोगों ने केंद्र और राज्य दोनों में भाजपा को सत्तारूढ़ करने के लिए मतदान किया था।

मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत ‘‘जय माता नैना देवीजी’’ के नारे से की। यह मंदिर बिलासपुर जिले में ही स्थित है। उन्होंने दशहरे की शुभकामनाएं भी दीं।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश ‘राष्ट्र रक्षा’ में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और अब बिलासपुर में नये एम्स के साथ, यह ‘जीवन रक्षा’ में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

मोदी ने कहा कि 2014 में हिमाचल प्रदेश में केवल तीन मेडिकल कॉलेज थे। पिछले आठ वर्षों में आठ और मेडिकल कॉलेज और एम्स स्थापित किये गये हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य को चिकित्सा पर्यटन से काफी लाभ हो सकता है।

मोदी ने ड्रोन नीति बनाने वाला पहला राज्य बनने पर हिमाचल को बधाई दी। उन्होंने कहा कि दवाओं और अन्य सामानों के परिवहन के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार गरीबों और मध्यम वर्ग के लिए ‘ईज ऑफ लिविंग’ सुनिश्चित कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल अवसरों का प्रदेश है, यहां बिजली पैदा होती है, फल-सब्जी के लिए उपजाऊ जमीन है और रोजगार के अनंत अवसर देने वाला पर्यटन यहां पर है।

उसी रैली में बोलते हुए, भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने पूछा कि क्या कांग्रेस के किसी प्रधानमंत्री ने आधारशिला रखी थी और फिर उसी परियोजना का उद्घाटन किया था? मोदी ने अक्टूबर 2017 में बिलासपुर एम्स और उससे पहले अप्रैल में कॉलेज की आधारशिला रखी थी।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को प्रधानमंत्री से 10,000 करोड़ रुपये की परियोजनाएं मिली हैं।

उन्होंने कहा कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद राज्यों में हर चुनाव में अलग-अलग पार्टियों को चुनने का चलन बदल गया है। उन्होंने भविष्यवाणी की कि हिमाचल प्रदेश में आगे भी ऐसा ही परिणाम देखने को मिलेगा।

बिलासपुर में एम्स केंद्र की प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत बनाया गया है और इसकी लागत 1,470 करोड़ रुपये है। इसे 18 स्पेशल्टी और 17 सुपर स्पेशल्टी विभागों, 18 ऑपरेशन थिएटर और 750 बिस्तरों के साथ एक अत्याधुनिक अस्पताल के रूप में वर्णित किया गया है। इस अस्पताल में आईसीयू में 64 बिस्तर हैं।

दो सौ सैंतीस एकड़ में फैले इस अस्पताल मे पहुंच की समस्या वाले जनजातीय इलाकों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए डिजिटल स्वास्थ्य केंद्र भी है। यह काजा, सलूनी और केलांग जैसे दूरस्थ स्थानों में स्वास्थ्य शिविर भी आयोजित करेगा।

अधिकारियों ने कहा कि अस्पताल हर साल अपने एमबीबीएस पाठ्यक्रमों में 100 और नर्सिंग पाठ्यक्रमों में 60 छात्रों को प्रवेश देगा।

नड्डा ने पिछले दिसंबर में बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) का उद्घाटन किया था, लेकिन उस वक्त सभी सुविधाएं तैयार नहीं हुई थीं।

मोदी ने अस्पताल और कॉलेज का शुभारंभ करने के अलावा आज के कार्यक्रम में अन्य विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी या उनका उद्घाटन किया। आज की, परियोजनाएं कुल 3,650 करोड़ रुपये की हैं।

भाषा सुरेश पवनेश

पवनेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)