कर्नाटक में 2.5 लाख स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

कर्नाटक में 2.5 लाख स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

Edited By: , January 15, 2022 / 08:48 PM IST

बेंगलुरु, 15 जनवरी (भाषा) कर्नाटक के स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री के सुधाकर ने शनिवार को कहा कि राज्य ने कोविड-19 से निपटने में प्रभावी ढंग से प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया है और अब तक लगभग 2.5 लाख स्वास्थ्य कर्मियों और अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को ऑनलाइन मंच के माध्यम से प्रशिक्षित किया गया है।

सुधाकर ने कहा कि यह पूरे देश के लिए एक मॉडल है। मंत्री ने ऑनलाइन मंच ‘स्टेप वन’ के सहयोग से लगभग 10,000 चिकित्सा, दंत चिकित्सा और आयुष छात्रों को गृह पृथक-वास देखभाल में प्रशिक्षित करने के लिए आयोजित किए जा रहे डिजिटल प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया और छात्रों को संबोधित किया।

मंत्री के कार्यालय से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया महामारी की पहली लहर के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों को नए वायरस के बारे में प्रशिक्षण देना आवश्यक था। लेकिन लॉकडाउन और अन्य कारणों से जब प्रत्यक्ष तरीके से प्रशिक्षण आयोजित करना संभव नहीं था, ऐसे में लगभग 2.5 लाख स्वास्थ्य सेवा और अग्रिम मोर्चे के कर्मचारियों को राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (आरजीयूएचएस) की मदद से ऑनलाइन माध्यम से प्रशिक्षित किया गया था।

विज्ञप्ति में कहा गया कि केंद्र सरकार ने भी प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के कर्नाटक के प्रयासों की सराहना की है।

सुधाकर ने कहा, ‘‘स्टेपवन ने कार्यकर्ताओं और डॉक्टरों को जुटाने और उन्हें प्रशिक्षण देने के लिए राज्य सरकार के साथ भागीदारी की है। इससे कर्नाटक में प्रभावी गृह पृथक-वास देखभाल शुरू हो गई है। नीति आयोग ने भी कर्नाटक में गृह पृथक-वास प्रक्रिया और इसके लिए इस्तेमाल की जाने वाली प्रौद्योगिकी की सराहना की है। गृह पृथक-वास प्रबंधन में चिकित्सा छात्रों, स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों और मेडिकल कॉलेजों के संकाय ने अहम भूमिका निभाई है।’’

मंत्री ने कहा कि गृह पृथक-वास के तहत नियमित रूप से स्वास्थ्य की निगरानी करने की एक प्रक्रिया है। उन्होंने कहा, ‘‘हम लगभग 10,000 चिकित्सा, दंत चिकित्सा और आयुष छात्रों की सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं और लगभग 500 विशेषज्ञ इस प्रणाली का सहयोग कर रहे हैं।’’

भाषा आशीष दिलीप

दिलीप