नोएडा में अवैध रूप से ठहरे थे जासूसी के संदेह में गिरफ्तार चीनी नागरिक : पुलिस

नोएडा में अवैध रूप से ठहरे थे जासूसी के संदेह में गिरफ्तार चीनी नागरिक : पुलिस

: , June 22, 2022 / 07:25 PM IST

नोएडा, 22 जून (भाषा) भारत-नेपाल सीमा से जासूसी के संदेह में गिरफ्तार किए गए दो चीनी नागरिकों से पूछताछ के दौरान पता चला है कि वे गौतम बुद्ध नगर की जेपी ग्रीन सोसाइटी तथा घरबरा गांव स्थित गेस्ट हाउस में 15 दिन तक अवैध रूप से रहे। पुलिस ने इसकी जानकारी दी।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गौतम बुद्ध नगर पुलिस ने बिहार में भारत-नेपाल सीमा पर जासूसी के संदेह में पकड़े गए चीनी नागरिकों को यहां अवैध रूप से शरण देने के आरोप में चीनी नागरिक सु-फाई तथा उसकी महिला मित्र को गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि जांच में पता चला कि शरण देने वाला चीनी नागरिक भी वीजा समाप्त होने के बावजूद अवैध रूप से भारत में रह रहा था। मामले की जांच के लिए पुलिस अधिकारियों ने एक जांच समिति गठित की है।

पुलिस उपायुक्त (जोन तृतीय) मीनाक्षी कात्यान ने बताया कि अपर पुलिस उपायुक्त विशाल पांडे को मामले की जांच करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि यह भी पता लगाया जाएगा कि क्या पुलिस की ओर से कोई लापरवाही रही।

उल्लेखनीय है कि गत 11 जून को भारत-नेपाल सीमा पर बिहार के सीतामढ़ी क्षेत्र में एसएसबी ने दो चीनी नागरिकों-लु लैंग और तो यूं हेलंग को पकड़ा था।

नोएडा पुलिस के अनुसार, ये दोनों आरोपी 15 दिन तक ग्रेटर नोएडा के घरबरा स्थित एक गेस्ट हाउस व जेपी ग्रींस सोसाइटी में रुके थे और दोनों को यहां पनाह चीनी नागरिक सु-फाइ व उसकी महिला मित्र पेटेख रेनुओ ने दी थी।

अधिकारियों ने कहा कि सु-फाई ने भारत में तीन फर्जी कंपनियां खोल रखी हैं, जिनके माध्यम से लाखों रुपये का लेन-देन हुआ है।

पुलिस ने बताया कि इस जानकारी के बाद केंद्रीय जांच व खुफिया एजेंसिया गिरफ्तार चीनी नागरिक से गहनता से पूछताछ में जुट गई हैं। उन्होंने कहा कि तीन दिन का पुलिस रिमांड लेकर चीनी जासूसों को शरण देने वाले चीनी नागरिक तथा उसकी महिला मित्र से पूछताछ की गई।

उन्होंने बताया कि इनकी निशानदेही पर कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज व भारी मात्रा में शराब बरामद की गई है।

पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि उक्त गेस्ट हाउस में रात में पार्टी चलती थी। पुलिस ने बताया कि गेस्ट हाउस का मालिक नटवरलाल नामक व्यक्ति है, जो अभी फरार है और उसकी भी तलाश की जा रही है। पुलिस ने बताया कि पूछताछ के दौरान केंद्रीय खुफिया एजेंसियों को अहम जानकारी मिली है, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

कात्यान ने कहा कि थाना बीटा-2 तथा थाना ईकोटेक- प्रथम क्षेत्र जहां चीनी जासूस ठहरे थे वहां के पुलिस अधिकारियों की कार्यप्रणाली की जांच की जाएगी तथा यह पता लगाया जाएगा कि पुलिस की इस मामले में कितनी लापरवाही रही है।

उन्होंने बताया कि पुलिस के बीट कांस्टेबल, हलका प्रभारी और थानेदार तक की भूमिका की जांच की जाएगी।

भाषा सं मनीषा रंजन नेत्रपाल

नेत्रपाल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)