बदरीनाथ मंदिर समिति के पुनर्गठन पर कांग्रेस का हल्ला ‘हिंदू विरोधी’ मानसिकता : भाजपा

बदरीनाथ मंदिर समिति के पुनर्गठन पर कांग्रेस का हल्ला 'हिंदू विरोधी' मानसिकता : भाजपा

Edited By: , January 14, 2022 / 08:07 PM IST

देहरादून, 14 जनवरी (भाषा) उत्तराखंड में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के पुनर्गठन को लेकर कांग्रेस की ओर से मचाया जा रहा हल्ला पार्टी की ‘हिंदू विरोधी’ मानसिकता को दर्शाता है।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता सुरेश जोशी ने इस मसले को लेकर कांग्रेस के चुनाव आयोग में जाने तथा हल्ला मचाने पर उसे आडे़ हाथों लेते हुए कहा कि इससे यह भी स्पष्ट हुआ है कि उसकी मंशा आगामी चारधाम यात्रा में रोड़ा अटकाने की है ।

जोशी ने आरोप लगाया, ‘‘कांग्रेस हमेशा मठ मंदिरों के सनातनी कार्यों और परंपराओं में रोड़ा अटकाती रही है।’’

कांग्रेस ने हाल ही में चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराते हुए कहा था कि बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति का गठन आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए किया गया है।

हालांकि, जोशी ने आचार संहिता के उल्लंघन की बात को खारिज करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड को भंग करने के पश्चात मंदिर समिति के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी थी और आचार संहिता लागू होने के पहले ही इसका गठन कर दिया गया ।

उन्होंने कहा, ‘ हालांकि, मामले को चुनाव आयोग में ले जाकर और बिना बात का मुद्दा बनाकर कांग्रेस पार्टी ने साबित कर दिया है कि उसकी मानसिकता हिंदू विरोधी है ।’

जोशी ने कहा कि मंदिर समिति को लेकर चुनाव आयोग में शिकायत कर कांग्रेस चारधाम यात्रा की प्रक्रिया में विघ्न डालना चाहती है ।

पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि समिति के पुनर्गठन करना जरूरी था क्योंकि हर साल अप्रैल-मई में शुरू होने वाली यात्रा के लिए पहले से तैयारी शुरू करनी होती है । उन्होंने कहा कि आगामी पांच फरवरी को बसंत पंचमी के दिन से मंदिरों के कपाट खुलने की आधिकारिक प्रक्रिया शुरू हो जाएगी ।

भाषा दीप्ति दीप्ति रंजन

रंजन