राजधानी की दो सोसाइटी को दशहरा, रामलीला के आयोजन की अदालत ने दी मंजूरी |

राजधानी की दो सोसाइटी को दशहरा, रामलीला के आयोजन की अदालत ने दी मंजूरी

राजधानी की दो सोसाइटी को दशहरा, रामलीला के आयोजन की अदालत ने दी मंजूरी

: , September 22, 2022 / 09:12 PM IST

नयी दिल्ली, 22 सितंबर (भाषा) दिल्ली उच्च न्यायालय ने दो सोसाइटी को यहां त्रि-नगर और कीर्ति नगर में दो अलग-अलग पार्क में दशहरा और रामलीला समारोह आयोजित करने की अनुमति दे दी और उन्हें सभी सुरक्षा नियमों का पालन करने का निर्देश दिया है।

दोनों सोसाइटी ने यह कहते हुए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था कि वे पिछले कई वर्षों से इन उद्यानों में रामलीला और दशहरा समारोह का आयोजन करते रहे हैं और पहले दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) इसी स्थान पर समारोह आयोजित करने की अनुमति देता था, लेकिन इस बार उसने अनुमति नहीं दी।

दोनों सोसाइटी की ओर से पेश वकील ने कहा कि उन्होंने 25 अगस्त को अनुमति के लिए आवेदन किया था, लेकिन डीडीए ने उनके अनुरोध का कोई जवाब नहीं दिया, जिसके बाद उन्होंने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

हालांकि, न्यायमूर्ति दिनेश कुमार शर्मा ने डीडीए द्वारा 22 अगस्त पारित कार्यालय आदेश का अवलोकन करते हुए कहा कि यह इंगित करता है कि प्राधिकरण ने स्वयं उपराज्यपाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिये गए निर्णय के अनुपालन के तहत विशिष्ट स्थानों को इन सोसाइटी को छह सितम्बर से 15 अक्टूबर तक की अवधि के लिए आरक्षित कर दिया था, ताकि किसी अन्य आयोजन समिति द्वारा ऑनलाइन मोड के माध्यम से किसी अन्य सामाजिक और सांस्कृतिक समारोह के लिए उन्हें बुक न किया जा सके।

उच्च न्यायालय ने दो अलग-अलग आदेशों में श्री केशव धार्मिक रामलीला समिति को 24 सितंबर से 5 अक्टूबर तक त्रि नगर के कन्हैया नगर मेट्रो स्टेशन के पास महर्षि दयानंद पार्क (नेपाल वाला बाग) में रामलीला और दशहरा समारोह आयोजित करने की अनुमति दी, वहीं आस्था रामलीला समिति को कीर्ति नगर स्थित सरस्वती गार्डन के डॉ. हेडगेवार पार्क (टंकी वाला पार्क) में आयोजन की मंजूरी दी।

डीडीए के वकील ने कहा कि दिल्ली में सार्वजनिक पार्क का इस्तेमाल शादी, रामलीला या व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए नहीं किया जा सकता है।

दोनों समितियों का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील ने अदालत को दिल्ली धार्मिक महासंघ द्वारा प्रस्तुत एक सूची दिखाई, जिसमें याचिकाकर्ता समितियों के नाम दिखाई देते हैं और डीडीए के कार्यालय आदेश को भी रिकॉर्ड पर रखा।

उच्च न्यायालय ने कहा कि डीडीए के कार्यालय आदेश के मद्देनजर, दोनों समितियों को संबंधित पार्क में रामलीला और दशहरा समारोह आयोजित करने की अनुमति दी जानी चाहिए, बशर्ते सभी शर्तों या नियमों का पालन किया जाए।

अदालत ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ता सोसाइटी भी एनजीटी, दिल्ली पुलिस, दिल्ली अग्निशमन सेवा, एमसीडी और अन्य संबंधित संगठनों द्वारा निर्धारित सभी सुरक्षा मानकों और अन्य मानदंडों का ईमानदारी से पालन करेगा।’’

भाषा सुरेश माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)