आतंकवाद, अराजक तत्वों का गढ़ बन गया है केरल: नड्डा |

आतंकवाद, अराजक तत्वों का गढ़ बन गया है केरल: नड्डा

आतंकवाद, अराजक तत्वों का गढ़ बन गया है केरल: नड्डा

: , November 29, 2022 / 08:34 PM IST

तिरुवनंतपुरम, 26 सितंबर (भाषा) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जे पी नड्डा ने सोमवार को दावा किया कि केरल अब आतंकवाद और अराजक तत्वों का ‘गढ़’ बन गया है और यहां जीवन सुरक्षित नहीं है।

नड्डा ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन पर भी निशाना साधा और कहा कि उनका परिवार भी सरकारी मामलों में लिप्त हो रहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि वाम दल भी कथित तौर पर परिवार या ‘‘वंशवादी शासन’’ का शिकार हो गया है क्योंकि ‘‘बेटी, दामाद का भी सरकार में हस्तक्षेप देखा गया है।’’

नड्डा ने एक दिन पहले कोट्टायम में आरोप लगाया था कि विपक्षी दलों में सभी राज्य या क्षेत्रीय दल हैं और उनमें से अधिकांश ‘‘परिवार आधारित दल’’ हैं।

हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री देवीलाल की जयंती मनाने के लिए एकत्रित हुए विपक्षी दलों की रैली का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा था कि ‘‘हरियाणा में विपक्षी नेताओं की एक रैली में वे सभी देवीलाल की जयंती मनाने के लिए एकत्र हुए। उनके लिए दो चीजें समान हैं। एक तो यह कि वे सभी परिवारवादी दल हैं और दूसरा यह कि वे सभी आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं।’’

उन्होंने विभिन्न राज्यों में ‘वंशवादी दलों’ का भी उदाहरण दिया था और कहा था कि भाजपा इन ‘वंश-आधारित, अत्यधिक भ्रष्ट’ दलों से लोकतंत्र को बचाने के लिए लड़ रही है।

उन्होंने सोमवार को राज्य की राजधानी में अपने भाषण के दौरान, राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति का उल्लेख किया और आरोप लगाया कि सांप्रदायिक तनाव बढ़ रहा है और हिंसा उत्पन्न करने और बढ़ावा देने वालों को वाम सरकार का मौन समर्थन है जो एक गंभीर मुद्दा है।

उन्होंने कहा कि राज्य प्रायोजित अराजकता भी बूथ स्तर के भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए लोगों के पास जाने और केरल में शासन की स्थिति के बारे में सूचित करने का एक कारण है।

नड्डा ने यहां बूथ पदाधिकारियों की एक बैठक में कहा, ‘‘केरल अब आतंकवाद का एक गढ़ बन गया है। यह अराजक तत्वों का भी एक गढ़ बन गया है। यहां जीवन सुरक्षित नहीं है। आम नागरिक खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करते। सांप्रदायिक तनाव बढ़ रहा है और हिंसा उत्पन्न करने और बढ़ावा देने वाले लोगों को सरकार का मौन समर्थन है।’’

उन्होंने बाद में, तिरुवनंतपुरम में भाजपा जिला समिति के एक कार्यालय का उद्घाटन भी किया। उन्होंने बूथ पदाधिकारियों की बैठक में यह भी आरोप लगाया कि ‘‘केरल विश्वविद्यालयों में नियुक्तियां भाई-भतीजावाद के आधार पर की जा रही हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमें बताया गया है कि मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) में शामिल लोगों के रिश्तेदारों को विश्वविद्यालयों में नियुक्त किया जा रहा है।’’

नड्डा ने लोकायुक्त की शक्तियों के संबंध में केरल विधानसभा द्वारा पारित विवादास्पद विधेयक का भी उल्लेख किया और आरोप लगाया कि राज्य सरकार लोकायुक्त की शक्तियों को कम करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘वे यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि सीएमओ लोकायुक्त के दायरे में न आए। यही हो रहा है।’’

इन सभी आरोपों के अलावा, उन्होंने एक दिन पहले राज्य सरकार और मुख्यमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार और वित्तीय अनुशासन की कमी के आरोपों को दोहराया, जिसने केरल को कर्ज के जाल में धकेल दिया है।

नड्डा के कार्यालय ने दिन में पहले ट्वीट किया कि ‘‘भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा जी ने केरल के तम्पनूर में छह लोकसभा क्षेत्रों के कोर कमेटी के सदस्यों की एक बैठक में भाग लिया और संबोधित किया। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री के. सुरेंद्रन और अन्य वरिष्ठ नेता भी उपस्थित थे।’’

इसने ट्वीट किया, ‘‘भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जे पी नड्डा जी ने केरल के कोट्टायम में पनचिक्कडु दक्षिण मूकाम्बिका मंदिर में जाकर आशीर्वाद लिया।’’

भाषा अमित नरेश

नरेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)