युवक की हत्या कर शव को थाने के सामने फेंका, वारदात से सनसनी, विपक्ष ने कहा- ये मुख्यमंत्री की नाकामी है..

ऑटोरिक्शा में अगवा कर ले गया है। उसने आरोप लगाया कि अपहरण का ब्योरा देने के बावजूद पुलिस कार्रवाई करने में नाकाम रही।

: , January 17, 2022 / 03:08 PM IST

कोट्टायम (केरल), (भाषा)। केरल के कोट्टायम में एक कुख्यात अपराधी ने 19 वर्षीय युवक की हत्या कर उसका शव कंधे पर लादकर सोमवार तड़के पुलिस स्टेशन के बाहर फेंक दिया। स्थानीय पुलिस ने यह जानकारी दी।

अधिकारियों ने बताया कि 40 वर्षीय जोमोन के जोस को शान बाबू के कथित अपहरण एवं हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। वह पुलिस की कुख्यात अपराधियों की सूची में शामिल है।

यह भी पढ़ें:  लाखों खर्च करने के बाद भी रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में शोध का काम पड़ा ठप्प, छात्रों के भविष्य के साथ हो रहा खिलवाड़

पुलिस के मुताबिक, हत्या से पहले बाबू को काफी प्रताड़ित किया गया था। उसका शव कोट्टायम पूर्व पुलिस स्टेशन के बाहर फेंकने के बाद जोस ने भागने की कोशिश की। हालांकि, पुलिस उसे पकड़ने में कामयाब रही। गिरफ्तारी के समय जोस ने नशीली दवा ले रखी थी।

पुलिस ने बताया कि बाबू को फौरन पास के अस्पताल ले जाया गया। वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बाबू की मां ने कहा कि उसने रविवार की रात को ही पुलिस से शिकायत की थी कि जोस उसके बेटे को कथित तौर पर एक ऑटोरिक्शा में अगवा कर ले गया है। उसने आरोप लगाया कि अपहरण का ब्योरा देने के बावजूद पुलिस कार्रवाई करने में नाकाम रही।

यह भी पढ़ें: जनाधार बढ़ाने बूथों पर जाएंगे भाजपा के 20 हजार नेता, हर बूथ पर देंगे 10 घंटे का समय, भोपाल में हुई बैठक में लिया गया फैसला

वहीं, पुलिस ने कहा कि जोस के खिलाफ कुछ महीने पहले केरल गैर-सामाजिक गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (कापा) लगाया गया था। इसके तहत उसका कोट्टायम जिले की सीमा में प्रवेश करना वर्जित था।

पुलिस ने बताया कि कोट्टायम आने के बाद जोस अपने गैंग को पुनर्गठित करना चाहता था। बाबू के इलाके में सक्रिय आपराधिक गैंग की जानकारी जुटाने के संदेह में मारे जाने की आशंका है।

यह भी पढ़ें:  भाजपा पार्षदों ने अपने ही पार्टी के खिलाफ खोला मोर्चा, नगर पंचायत अध्यक्ष के विरोध में उतरे

केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष वीडी सथीसन ने घटना की निंदा की। उन्होंने इसे मुख्यमंत्री पी विजयन के नेतृत्व वाले गृह विभाग की नाकामी का एक और सबूत करार दिया। साथ ही कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था नहीं सुधरी तो विपक्ष मुख्यमंत्री पर गृह विभाग की कमान छोड़ने का दबाव बनाने को मजबूर हो जाएगा।