हेड कांस्टेबल की हत्या के आरोप में एक व्यक्ति गिरफ्तार |

हेड कांस्टेबल की हत्या के आरोप में एक व्यक्ति गिरफ्तार

हेड कांस्टेबल की हत्या के आरोप में एक व्यक्ति गिरफ्तार

: , October 3, 2022 / 08:14 PM IST

नयी दिल्ली, तीन अक्टूबर (भाषा) उत्तर पूर्वी दिल्ली में 2020 में दंगे के दौरान हुई हेड कांस्टेबल रतनलाल की हत्या के मामले में आरोपी 33 वर्षीय एक व्यक्ति को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी।

इसने बताया कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने चांदबाग निवासी आरोपी मोहम्मद वासिम उर्फ बबलू उर्फ सलमान को ‘भगोड़ा अपराधी’ घोषित किया था।

पुलिस के अनुसार हिंसा में रतनलाल की मौत के साथ ही शाहदरा के तत्कालीन पुलिस उपायुक्त अमित शर्मा और गोकुलपुरी के सहायक पुलिस आयुक्त अनुज कुमार घायल हुए थे। इसने कहा कि घायलों में 50 अन्य पुलिसकर्मी भी थे।

विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) रवींद्र सिंह यादव ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज एवं वीडियो के विश्लेषण, कॉल डिटेल रिकार्ड, गवाहों के बयान और आरोपियों के खुलासे के आधार 22 आरोपियों की पहचान की एवं उन्हें गिरफ्तार किया।

उन्होंने कहा, ‘‘फरार आरोपियों को पकड़ने के लिए विशेष दल का गठन किया गया और जांच के दौरान दल ने सूचनाएं जुटायीं तथा दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश में अपने मुखबिर लगाये क्योंकि आरोपियों के मकानों पर इस घटना के बाद ताला लगा मिला था।’’

अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में कई स्थानों पर छापा मारा गया लेकिन आरोपी के बारे में कोई सुराग नहीं मिला।

उन्होंने कहा कि जब सहायक उपनिरीक्षक मोहम्मद रहीसुद्दीन को यह पता चला कि आरोपी वासिम उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में गुपचुप तरीके से रह रहा है तब जांच आगे बढ़ी।

अधिकारी ने बताया कि अलीगढ़ में सूचनाएं एकत्र की गयीं और जब इस बात की पुष्टि हो गयी कि कि वह दिलशाद नामक एक व्यक्ति की फैक्टरी में काम कर रहा है तब टीम ने उसके सटीक ठिकाने का पता लगाया जिससे उसकी गिरफ्तारी हो पायी।

उन्होंने बताया कि जांच के दौरान वासिम ने पुलिस को बताया कि 2010 में वह दिल्ली आया था और अपने माता-पिता के मकान में रहने लगा। वासिम ने कथित तौर पर पुलिस को बताया कि वह फरवरी 2020 में सीएए विरोधी प्रदर्शन में अपने मित्रों के साथ भाग लेने लगा जहां वह असामाजिक तत्वों के संपर्क में आया।

अधिकारी ने बताया कि घटना के दिन उसने अपने साथियों के साथ मिलकर थिनर से भरी बोतलों का कार्टन (जिसे कच्चा बम भी कहा जाता है) एक मकान की छत पर रख दिया। उनके अनुसार यही बोतलें बाद में पुलिस अधिकारियों पर फेंकी गयीं।

यादव ने बताया कि इस घटना के बाद आरोपी ने अपना मोबाइल नष्ट कर दिया और पिछले दो साल से अपने रिश्तेदारों से भी सपंर्क नहीं किया। उनके अनुसार फरार होने के बाद आरोपी अलीगढ़ में दिलशाद की ताला-निर्माण फैक्टरी में काम करने लगा।

भाषा राजकुमार नेत्रपाल

नेत्रपाल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)