एसएफआई परिसर में शांति और सद्भाव को बिगाड़ रहा : जामिया की कुलपति |

एसएफआई परिसर में शांति और सद्भाव को बिगाड़ रहा : जामिया की कुलपति

एसएफआई परिसर में शांति और सद्भाव को बिगाड़ रहा : जामिया की कुलपति

: , January 25, 2023 / 09:35 PM IST

(फोटो के साथ)

(विशु अधना)

नयी दिल्ली, 25 जनवरी (भाषा) जामिया मिल्लिया इस्लामिया की कुलपति नजमा अख्तर ने 2002 के गोधरा दंगों पर हाल ही में बने बीबीसी के वृत्तचित्र को परिसर में दिखाने की घोषणा करने वाले छात्र समूह पर ‘शांति और सद्भाव को बिगाड़ने’ का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि वह विश्वविद्यालय में इस तरह के आचरण की अनुमति नहीं देंगी।

केंद्र ने हाल ही में इस वृत्तचित्र के लिंक को सोशल मीडिया मंचों से हटाने को कहा था।

स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) ने घोषणा की थी बीबीसी के वृत्तचित्र को परिसर में दिखाया जाएगा। जामिया प्रशासन ने इस कदम पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की और दिल्ली पुलिस ने कई छात्रों को हिरासत में ले लिया।

अख्तर ने पीटीआई-भाषा से कहा, ”हम परिसर में कोई गड़बड़ी नहीं चाहते। हम विश्वविद्यालय में शांति और सद्भाव बनाए रखना चाहते हैं, जहां छात्र पढ़ाई कर रहे हैं और परीक्षाएं दे रहे हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘ एसएफआई जैसा एक छोटा समूह, जिसका कोई अनुयायी नहीं है, विरोध प्रदर्शन कर रहा है। हम इस तरह के आचरण को स्वीकार नहीं करते हैं। उनका मकसद परिसर में शांति और सद्भाव को बिगाड़ना है। मैं किसी भी कीमत पर इस तरह के व्यवहार की अनुमति नहीं दूंगी। ’’

यह पूछे जाने पर कि क्या प्रदर्शनकारी छात्रों के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी, उन्होंने कहा कि वे इस संबंध में रिपोर्ट मांगेंगी और ‘यदि जरूरी हुआ तो छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।’

वाम समर्थित छात्र संगठन एसएफआई की जामिया इकाई ने घोषणा की थी कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बने बीबीसी के विवादित वृत्तचित्र को शाम छह बजे जामिया मिल्लिया इस्लामिया परिसर में दिखाएगा।

हालांकि, विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा कि वृत्तचित्र की स्क्रीनिंग के लिए कोई अनुमति नहीं दी गयी है और ‘‘हम ऐसा नहीं होने देंगे’’।

एसएफआई की जामिया इकाई ने एक पोस्टर जारी कर सूचित किया है कि एससीआरसी लॉन गेट नंबर 8 पर शाम छह बजे वृत्तचित्र दिखाया जाएगा।

बीबीसी के विवादित वृत्तचित्र को दिखाने की घोषणा के बाद दिल्ली पुलिस ने बुधवार को कहा कि उन्होंने चार छात्रों को हिरासत में लिया है।

दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि एसएफआई ने शाम छह बजे वृत्तचित्र दिखाने की योजना का ऐलान किया है और इससे कुछ घंटे पहले एसएफआई के चार सदस्यों को हिरासत में लिया गया है।

इस बीच एसएफआई ने दावा किया कि दिल्ली पुलिस ने 70 से अधिक ऐसे छात्रों को हिरासत में लिया है जो विवादित वृत्तचित्र को दिखाने की घोषणा के बाद चार छात्रों को हिरासत में लिए जाने का विरोध करने के लिए जामिया में एकत्र हुए थे।

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ने भी जामिया के तीन छात्रों को हिरासत में लिए जाने की निंदा की।

वहीं प्रदर्शन को शांत करने के लिए प्रशासन ने विश्वविद्यालय के गेट को बंद कर दिया और सभी के प्रवेश करने पर रोक लगा दी। सिर्फ उन्हीं छात्रों को परिसर में प्रवेश करने दिया गया, जिनकी शाम साढ़े पांच बजे परीक्षा थी।

भाषा अविनाश माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)