तमिलनाडु : सीआईडी के ‘आइडल विंग’ ने क्रिस्टीज में नीलाम काला सम्हारा प्रतिमा पर दावा किया |

तमिलनाडु : सीआईडी के ‘आइडल विंग’ ने क्रिस्टीज में नीलाम काला सम्हारा प्रतिमा पर दावा किया

तमिलनाडु : सीआईडी के ‘आइडल विंग’ ने क्रिस्टीज में नीलाम काला सम्हारा प्रतिमा पर दावा किया

: , September 22, 2022 / 04:26 PM IST

चेन्नई, 22 सितंबर (भाषा) अपराध जांच विभाग के ‘आइडल विंग’ ने अमेरिका के क्रिस्टीज में नीलाम की गई काला सम्हारा मूर्ति पर राज्य के मालिकाना हक का दावा करने संबंधी कानूनी दस्तावेज भेजे हैं। विंग ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

शिव त्रिपुराविजय की यह दुर्लभ और शानदार कांस्य मूर्ति लगभग 1050 ईस्वी के चोल काल की है। इसमें भगवान शिव त्रिभंग की मुद्रा में एक पैर पर खड़े और एक व्यक्ति के कंधे पर एक पैर रखे हुए हैं और उन्होंने धोती और कई आभूषण पहने हुए हैं।

विंग ने कहा कि ये दस्तावेज इस मूर्ति पर तमिलनाडु के कानूनी अधिकार की पुष्टि करते हैं। उसके अनुसार, इसे त्रिपुरांतक मूर्ति भी कहा जाता है जो करीब 50 साल पहले तंजावुर जिले में ओरथानाडु के मुथम्मल पुरम गांव में श्री काशी विश्वनाथ स्वामी मंदिर से चोरी हो गयी और उसकी जगह एक नकली मूर्ति स्थापित की गई है।

डीजीपी के जयंत मुरली ने कहा कि चोरी की गई 82.3 सेंटीमीटर लंबी मूर्ति का पता क्रिस्टीज डॉट कॉम पर चला। वेबसाइट के अनुसार, चुराई गई इस मूर्ति की कीमत 4,350,000 अमेरिकी डॉलर बताई गई है।

मूर्ति चोरी की जानकारी छह नवंबर, 2020 को सामने आई, जब श्री काशी विश्वनाथ स्वामी मंदिर के कार्यकारी अधिकारी जी सुरेश ने पुलिस उपाधीक्षक, आइडल विंग सीआईडी, चेन्नई के पास एक शिकायत दर्ज कराई, जिसमें कहा गया था कि भगवान शिव की प्राचीन धातु की मूर्ति चोरी हो गई है। उन्होंने आगे कहा कि लगभग 50 साल पहले मूल मूर्ति को नकली मूर्ति से बदल दिया गया था।

भाषा सुरभि मनीषा

मनीषा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)