देखिए खरगोन विधानसभा के विधायकजी का रिपोर्ट कार्ड | Watch Video :

देखिए खरगोन विधानसभा के विधायकजी का रिपोर्ट कार्ड

देखिए खरगोन विधानसभा के विधायकजी का रिपोर्ट कार्ड

: , March 25, 2021 / 09:50 PM IST

खरगोन विधायकजी के रिपोर्ट कार्ड में आज बारी है मध्यप्रदेश की खरगोन सीट की। खरगोन के चुनावी मुद्दे और विधायकजी के पिछले पांच साल का रिपोर्ट कार्ड आपके सामने रखें, उससे पहले सीट के सियासी मिजाज पर नजर डाल लेते हैंकभी कांग्रेस का मजबूत गढ़ रहा ये इलाका 2003 से बीजेपी के कब्जे में है और बालकृष्ण पाटीदार वर्तमान विधायक हैं, जो  हैट्रिक लगाने की मंशा से चुनावी तैयारियों में जुटे हैंशिवराज सरकार ने चुनाव से ऐन पहले बालकृष्ण पाटीदार को राजयमंत्री का पद सौप कर पाटीदार और निमाड़ क्षेत्र की जनता को साधने की कोशिश की है।

नवग्रह की नगरी के नाम से पूरे देश में विख्यात खरगोन का सियासी पारा चढने लगा है। खरगोन जिले में कुल छह विधानसभाएं है, जिनमें से तीन पर कांग्रेस और तीन पर बीजेपी का कब्जा है। बात अगर खरगोन विधानसभा क्षेत्र की करें तो यहां बीते 15 वर्षों से बीजेपी का कब्जा है। फिलहाल खरगोन विधानसभा में बीजेपी के दिग्गज बालकृष्ण पाटीदार विधायक हैं जो 2008 से यहां लगातार दो चुनाव जीत चुके हैंबालकृष्ण पाटीदार वर्तमान में शिवराज सरकार में कृषि और श्रम राज्यमंत्री भी है।

यह भी पढ़ें : सड़कों की हालत पर शिवराज का पलटवार,कहा- बांग्लादेश की सड़क को बताया एमपी की सड़क

वैसे सीट के सियासी इतिहास की बात की जाए तो 2003 तक ये इलाका कांग्रेस का गढ़ हुआ करता था लेकिन 2003 में बाबूलाल महाजन कांग्रेस के इस किले को भेदने में सफल हुएहालांकि 2008 में बीजेपी ने यहां से बालकृष्ण पाटीदार को टिकट दिया, जो पार्टी के दांव को सही साबित करते हुए कांग्रेस के रामलाल पाटीदार हराकर विधानसभा पहुंचे। 2013 में भी पार्टी ने उनपर भरोसा जताया, इस बार उन्होंने रवि जोशी को 6 हजार 825 वोटों से मात दीइस चुनाव में बीजेपी को जहां 74 हजार 519 वोट मिलेवहीं कांग्रेस के खाते में 67 हजार 694 वोट गिरे।

खरगोन के जाति समीकरण की बात करें तो 2 लाख 20 हजार मतदाताओं वाले इस क्षेत्र में पाटीदार वोटर्स निर्णायक भूमिका में हैवर्तमान बीजेपी विधायक बालकृष्ण पाटीदार इसी समाज से आते हैंइनके इलाका मुस्लिम, ब्राह्मण, यादव, दांगी, गडरिया और रघुवंशी समाज की बहुलता है, जो यहां चुनाव नतीजों को प्रभावित करते हैंकुल मिलाकर खरगोन में मिशन 2018 का काउंटडाउन शुरू हो चुका हैबीजेपी जहां बालकृष्ण पाटीदार को राज्यमंत्री का पद देकर सियासी समीकरण को साधने में जुटी हैतो वहीं कांग्रेस मौजूदा विधायक की नाकामियों को मुद्दा बनाकर जनता दरबार में पहुंचने लगी है।

खरगोन में मुद्दों की बात की जाए तो यहां समस्याओं का अंबार हैविधानसभा क्षेत्र और प्रदेश में बीजेपी की सरकार होने के बाद भी यहां की जनता को बहुत ज्यादा फायदा नहीं मिला हैमूलभूत सुविधाओं के अलावा शिक्षा और रोजगार के लिए भी यहां के लोगों को जद्दोजहद करनी पड़ती है, जिसे लेकर लोगों में गुस्सा हैऐसे में अगर चुनाव से पहले इनकी शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया तो बीजेपी विधायक के लिए यहां हैट्रिक लगाना मुश्किल होगा।

यह भी पढ़ें : रज़ा मुराद ने मी-टू कैंपेन को बताया सही ,युवतियों को अदालत जाने की दी सलाह

विधायक किसी और पार्टी का हो और प्रदेश में सरकार किसी और दल का हो तो अमूमन यही देखा जाता है कि आपसी टकराव के कारण क्षेत्र में विकास को लेकर केवल आरोप-प्रत्यारोप ही होता हैलेकिन खरगोन की बात करें तो पिछले 15 सालों से विधानसभा क्षेत्र और प्रदेश में बीजेपी की ही सरकार हैलेकिन बावजूद इसके खरगोन की किस्मत नहीं बदलीआज भी यहां बुनियादी सुविधाओं के बीच लोग जिंदगी गुजारने को मजबूर हैंमुद्दों की बात की जाए तो खरगोन में बेरोजगारी सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा होगापिछले 15 सालों में यहां एक भी बड़ा उद्योग स्थापित नहीं हुआ, जिसकी वजह से यहां के युवाओं को काम की तलाश में इंदौर, गुजरात और महाराष्ट्र का रूख करना पड़ता है। 

शिक्षा के क्षेत्र में भी यहां कोई खास उपलब्धि नजर नहीं आती छात्रों को बेहतर शिक्षा के लिए दूसरे शहर जाना पड़ता है, जिससे उन्हें आर्थिक रूप से भी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैवहीं कृषि प्रधान जिला होने के बाद भी यहां कृषि महाविद्यालय की स्थापना नहीं हो सकी है। से लेकर यहां के छात्रों में काफी नाराजगी है।

खरगोन में बीजेपी विधायक को यहां केवल शिक्षा और बेरोजगारी जैसे मुद्दों का ही सामना नहीं करना पड़ेगा बल्कि आने वाले चुनाव में उन्हें किसानों के सवालों का जवाब भी देना होगादरअसल विधानसभा क्षेत्र में कपास, मिर्च, सोयाबीन सहित गेहूं प्रमुख रूप से उत्पादित की जाती है। किन जो भी सरकार आई, सबने वादे किए लेकिन किसानों की मूलभूत समस्याओं पर किसी भी सरकार ने काम नहीं किया।

2013 में चुनाव के दौरान खुद शिवराज सिंह चौहान खरगोन में नर्मदा का पानी लाने की घोषणा की थी, लेकिन अब तक लोगों के घरों में नर्मदा का पानी नहीं पहुंचा हैजाहिर है आने वाले चुनाव में ये प्रमुख चुनावी मुद्दा होगाइसके अलावा कुपोषण का मुद्दा भी अहम होगावहीं कुंद्रा नदी के सौंदर्यीकरण पर भी विशेष ध्यान नहीं दिया गयाअब जब चुनाव में तकरीबन 1 महीने का वक्त बचा है तो जनता के साथ-साथ विपक्ष ने भी बीजेपी को इन मुद्दों को लेकर घेरने में जुट गई हैहालांकि बीजेपी विधायक बालकृष्ण पाटीदार का कहना है कि उनके कार्यकाल में कांग्रेस के समय से बेहतर काम हुआ है।

खरगोन जिला होने के बावजूद भी यहां पर जिला कोर्ट नहीं है। इससे जनता और वकील दोनों को खरगोन से 80 किलोमीटर दूर मंडलेश्वर जाना पड़ता है। इस समस्या को लेकर सभी वकील विधायक से भी कई बार गुहार लगा चुके हैलेकिन इसका कोई हल नहीं निकाला जा सका है, जो लोग सक्षम होते है वे इंदौर से वकील हायर कर अपनी लड़ाई लड़ते है और लेकिन आम जनता को यूं ही परेशान होना पड़ता है। कुल मिलाकर बीजेपी विधायक के लिए यहां मिशन 2018 की जंग इतनी आसान नहीं रहने वाली। खरगोन विधानसभा क्षेत्र से भले ही बालकृष्ण पाटीदार 2 बार बीजेपी को चुनाव जीता चुके है लेकिन इस बार पार्टी के ही कई उम्मीदवार उनके सामने ही चुनाव लड़ने के लिए खड़े है इस लिस्ट में बाबूलाल महाजन और शालिनी रतोरिया सहित की नाम शामिल हैंवहीं कांग्रेस में भी दावेदारों की फेहरिस्त से एक नाम चुनना इतना आसान नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : पहले चरण की 18 सीटों के लिए अधिसूचना, 31.79 लाख मतदाताओं के लिए 4 हजार 336 मतदान केन्द्र

खरगोन में बीजेपी आज अगर मजबूत स्थिति में नजर आती है तो इसमें मौजूदा विधायक बालकृष्ण पाटीदार की भूमिका अहम है लगातार दो बार चुनाव जीतने वाले बालकृष्ण पाटीदार समाज से भी आते हैं, जो यहां की जनसंख्या की सबसे बड़ी आबादी है और चुनाव नतीजों को प्रभावित भी करते हैंबालकृष्ण पाटीदार खरगोन में हैट्रिक लगाने की मंशा से एक बार फिर यहां चुनावी ताल ठोंकने के लिए तैयार हैं अगर सबकुछ ठीक ठाक रहा और कोई बड़ा उलटफेर नहीं हुआ तो उनका टिकट लगभग तय माना जा रहा हैहालांकि टिकट के लिए उन्हें पार्टी में अपनों से चुनौती मिल सकती हैइस लिस्ट में पहला नाम है पूर्व विधायक बाबूलाल महाजन का, जिन्होंने 2003 में इस सीट को बीजेपी की झोली में डाली थीउन्होंने चुनाव लड़ने के लिए जिलाध्यक्ष का पद भी त्याग दिया है और चुनावी तैयारियों में जुट गए हैं।

इन दोनों के अलावा पार्टी से इस बार राष्ट्रीय स्वयं सेविका की जिला संयोजक शालिनी रतोरिया भी इस सीट से प्रबल दावेदार मानी जा रही हैं। राष्ट्रीय संगठन में मजबूत पकड़ रखने वाली शालिनी खरगोन से चुनाव लड़ने की तैयारी भी शुरू कर दी है बीजेपी से व्यापारी प्रकोष्ठ के राज्य स्तर के संयोजक कल्याण अग्रवाल भी चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैउनका कहना है कि वे लम्बे समय से राष्ट्रीय स्वयं सेवक से जुड़े हुए है और अब राजनीति के मुख्य धारा में आकर जनता की सेवा करना चाहते है।

खरगोन विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस की बात की जाए तो उसे 2003 से यहां हार का सामना करना पड़ रहा हैयही वजह है कि यहां जीत का दावा करने वाले दावेदारों की कोई कमी नहीं हैइन दावेदारों में पहला नाम है 90 के दशक में कांग्रेस को यहां सत्ता दिलवाने वाले परसराम डंडीर कावो पूरे दमखम से अपना दावा पेश कर रहे हैं वहीं 2013 में चुनाव लड़ने वाले रवि जोशी का दावा भी मजबूत हैचुनाव हारने के बाद भी क्षेत्र में सक्रिय रहना उनके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। एसएसटी एक्ट के विरोध में जन आंदोलन के रूप में खड़ा हुआ संगठन अब राजनीतिक रूप ले चुका है। खरगोन से ही स्पाक्स के सबसे ज्यादा आंदोलन भी देखने को मिले है। इस बार आर्थिक आधार पर आरक्षण और अन्य मुद्दों की मांग को लेकर सपाक्स भी चुनाव लड़ने की बात कह रही है।

यह भी पढ़ें : प्रदेश बीजेपी प्रभारी जैन ने कहा- चुनाव एक तरह से युद्ध,बढ़ा हुआ है हमारा और कार्यकर्ताओं का मनोबल

कुल मिलाकर खरगोन में टिकट दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है और इन दावेदारों में कांटछांट करना ही सियासी पार्टियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगीजाहिर है आगामी चुनाव में यहां मुकाबला किसी भी पार्टी के लिए आसान नहीं होगा।

वेब डेस्क, IBC24

 

#HarGharTiranga