मध्य प्रदेश : चीतों के लिए बनाये गये बाड़े में घुसे तेंदुओं को भगाने के लिए तैनात होंगे दो हाथी |

मध्य प्रदेश : चीतों के लिए बनाये गये बाड़े में घुसे तेंदुओं को भगाने के लिए तैनात होंगे दो हाथी

मध्य प्रदेश : चीतों के लिए बनाये गये बाड़े में घुसे तेंदुओं को भगाने के लिए तैनात होंगे दो हाथी

: , August 14, 2022 / 09:37 PM IST

भोपाल, 14 अगस्त (भाषा) मध्य प्रदेश के श्योपुर जिला स्थित कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में विदेश लाए गए चीतों को शुरुआती दिनों में रखने के लिए पांच वर्ग किलोमीटर के दायरे में बनाये गये बाड़े में घुसे चार तेंदुओं को भगाने के लिए दो हाथियों को तैनात किया जा रहा है। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी है।

सतपुड़ा बाघ अभयारण्य के निदेशक एल कृष्णमूर्ति ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि दोनों हाथी अपने महावतों के साथ ट्रकों पर सवार होकर रविवार सुबह सतपुड़ा बाघ अभयारण्य से कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान की करीब 800 किलोमीटर लंबी यात्रा पर निकल पड़े हैं।

वन अधिकारियों के अनुसार, ऐसे प्रशिक्षित हाथियों का उपयोग विभिन्न कार्यों के लिए किया जाता है, जिसमें बेहोश करने के लिए जानवरों को घेरना और हमलावार जानवरों को भगाने सहित अन्य कार्य शामिल हैं।

अधिकारियों ने बताया कि कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में चीतों को लाकर शुरू में रखने के लिए पांच वर्ग किलोमीटर के दायरे में बनाये गये बाड़े में छह तेंदुए घुस गये थे, जिनमें से दो को पिंजड़े में पकड़कर वहां से बाहर निकाल लिया गया है, जबकि चार अन्य को बाहर निकालने का प्रयास कई दिनों से जारी है।

दुनिया के सबसे तेज दौड़ने वाला स्तनधारी चीता 70 साल पहले भारत में विलुप्त हो गया था और इन चीतों को अब मध्य प्रदेश के श्योपुर जिला स्थित कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में बसाने की योजना है।

गौरतलब है कि चीतों को दक्षिण अफ्रीका एवं नामीबिया से अगले महीने तक भारत लाये जाने की उम्मीद है।

भाषा रावत अर्पणा

अर्पणा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)