मप्र सरकार ने टमाटर उत्पादन के लिए 11 जिलों का चयन किया

मप्र सरकार ने टमाटर उत्पादन के लिए 11 जिलों का चयन किया

: , May 17, 2022 / 11:06 PM IST

भोपाल, 17 मई (भाषा) मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कहा कि प्रदेश सरकार ने एक जिला एक उत्पाद योजना के तहत प्रदेश के 11 जिलों का चयन टमाटर उत्पादन के लिए किया है।

चौहान उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग द्वारा नीदरलैंड के दूतावास के सहयोग से हुए ‘इंटरनेशनल टोमेटो कान्क्लेव–2022’ को यहां अपने निवास कार्यालय से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रदेश की ‘एक जिला-एक उत्पाद’ योजना में 11 जिलों को विशेष रूप से टमाटर उत्पादन के लिए चुना गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किसान की आय दोगुना करने के लक्ष्य को हम कृषि के विविधीकरण से प्राप्त कर सकते हैं।’’

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा कृषि वैज्ञानिकों, प्रसंस्करणकर्ता, निर्यातकों से सलाह लेकर इस दिशा में गतिविधियां संचालित की जा रही हैं।

चौहान ने कहा कि टमाटर के साथ फल-फूल, सब्जी, मसाला, औषधीय और सुगंधित फसलों की खेती और उनके प्रसंस्करण एवं व्यापार की अपार संभावनाएं हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रदेश में 11 विविध कृषि जलवायु क्षेत्र हैं। राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न फसलों के उत्पादन में मध्यप्रदेश अग्रणी है। संतरा और धनिया बीज उत्पादन में प्रदेश, देश में प्रथम है। साथ ही अमरूद, टमाटर, प्याज, फूलगोभी, हरी मिर्च, मटर, लहसुन, नींबू आदि के उत्पादन में मध्यप्रदेश देश के अग्रणी राज्यों में है।’’

उन्होंने कहा कि वह स्वयं किसान हैं और अमरूद, अनार, आम की पैदावार लेते हैं। उनकी 9 एकड़ जमीन में 766 टन टमाटर की पैदावार हुई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंटरनेशनल टोमेटो कान्क्लेव-2022 प्रदेश में टमाटर फसल और उसके निर्यात, भंडारण, प्रसंस्करण को बढ़ाने में महत्वपूर्ण सिद्ध होगा।

कार्यक्रम को वर्चुअली संबोधित करते हुए केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने के लिये फसलों के उत्पादन से लेकर बाजार तक की व्यवस्था बनानी होगी।

उन्होंने कहा, ‘‘मध्यप्रदेश उद्यानिकी और प्राकृतिक खेती में बहुत अग्रणी है। प्रदेश ने सिंचाई और कृषि उत्पादन में बहुत उन्नति की है। खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में भी प्रदेश आगे बढ़ रहा है।’’

इस अवसर पर नीदरलैण्ड के राजदूत मार्टिन बेन डेनवर्ग ने कहा, ‘‘किसानों को फसलों के उत्पादन से जुड़ी नई तकनीक का ज्ञान देना जरूरी है। भारत के साथ नीदरलैण्ड की पिछले 75 वर्षों से निकट मित्रता है। इंटरनेशनल टोमेटो कॉन्क्लेव-2022 से टमाटर उत्पादन में किसानों को लाभ मिलेगा।’’

इससे पहले प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त शैलेन्द्र सिंह ने उद्यानिकी विभाग द्वारा राज्य में किसानों के कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी।

भाषा दिमो अर्पणा

अर्पणा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)