महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा मुद्दे को उछालने का मकसद ‘मुख्य खबरों’ से ध्यान हटाना तो नहीं : राज ठाकरे |

महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा मुद्दे को उछालने का मकसद ‘मुख्य खबरों’ से ध्यान हटाना तो नहीं : राज ठाकरे

महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा मुद्दे को उछालने का मकसद ‘मुख्य खबरों’ से ध्यान हटाना तो नहीं : राज ठाकरे

: , November 29, 2022 / 11:13 PM IST

कोल्हापुर, 29 नवंबर (भाषा) महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने मंगलवार को आश्चर्य जताते हुए कहा कि कहीं महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद जैसे मुद्दों को उछालने का मकसद ‘‘मुख्य खबरों’’ से ध्यान भटकाना तो नहीं है।

1960 के दशक में भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्गठन के बाद से सीमा विवाद के मुद्दे जारी हैं।

दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद के बारे में पूछे जाने पर राज ठाकरे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुझे समझ में नहीं आता कि यह मुद्दा बार-बार और अचानक क्यों उठता है। यह मुद्दा वर्तमान में अदालत के समक्ष विचाराधीन है। मैंने पढ़ा है कि दिल्ली में कुछ बैठकें चल रही हैं। यह जांचने की आवश्यकता है कि क्या कोई जानबूझकर मुख्य समाचार से ध्यान भटकाने के लिए बार-बार इस प्रकार के मुद्दों को सामने ला रहा है।’’

इस बीच, ठाकरे ने यह भी कहा कि मनसे मुंबई के आगामी निकाय चुनाव अकेले दम पर लड़ेगी।

महाराष्ट्र के राज्यपाल बी.एस. कोश्यारी द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज को ‘‘पुराने समय का प्रतीक’’ कहे जाने के बारे में पूछे जाने पर, ठाकरे ने आश्चर्य व्यक्त किया कि क्या ‘‘कोई महत्वपूर्ण मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए राज्यपाल को एक ‘स्क्रिप्ट’ देता है।’’

भाषा शफीक वैभव

वैभव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)