नागपुर पुलिस ने बागेश्वर धाम के प्रमुख को ‘क्लीन चिट’ दी |

नागपुर पुलिस ने बागेश्वर धाम के प्रमुख को ‘क्लीन चिट’ दी

नागपुर पुलिस ने बागेश्वर धाम के प्रमुख को ‘क्लीन चिट’ दी

: , January 25, 2023 / 09:31 PM IST

नागपुर, 25 जनवरी (भाषा) नागपुर पुलिस ने अंधविश्वास गतिविधियों को कथित तौर पर बढ़ावा देने के खिलाफ दर्ज शिकायत में बागेश्वर धाम के प्रमुख धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को बुधवार को ‘‘क्लीन चिट’’ दे दी।

‘अखिल भारतीय अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति’ के संस्थापक श्याम मानव ने एक शिकायत दर्ज कराकर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के खिलाफ नागपुर में अपने कार्यक्रमों में अंधविश्वास गतिविधियों को बढ़ावा देने का आरोप लगाया था।

नागपुर के पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बात करते हुए कहा कि शिकायत और श्याम मानव द्वारा प्रस्तुत ‘‘सबूत’’ की जांच के दौरान, ऐसा कुछ भी नहीं मिला, जिसमें काला जादू रोकथाम और उन्मूलन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा सके।

मानव ने आठ जनवरी को शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें कहा गया था कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने पांच से 13 जनवरी तक नागपुर में ‘श्री राम कथा’ कार्यक्रम आयोजित किया और इस दौरान उन्होंने अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाले ‘दिव्य दरबार’ और ‘प्रेत दरबार’ कार्यक्रम आयोजित किए।

मानव ने अपनी शिकायत में महाराष्ट्र मानव बलि और अन्य अमानवीय, बुराई और अघोरी प्रथाओं और काला जादू रोकथाम एवं उन्मूलन अधिनियम, 2013 के तहत कार्रवाई किये जाने की मांग की थी।

मानव ने नौ जनवरी को यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया था, जिसमें शास्त्री को अपनी ‘दिव्य शक्ति’ साबित करने और 30 लाख रुपये नकद इनाम जीतने की चुनौती दी थी।

शास्त्री मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के गढ़ा गांव में बागेश्वर धाम के प्रमुख हैं।

अमितेश कुमार ने कहा, ‘‘मानव द्वारा बागेश्वर महाराज के खिलाफ दर्ज कराई गई शिकायत और सबूत के तौर पर उनके द्वारा प्रस्तुत एक वीडियो के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच की। हालांकि, यह पाया गया कि नागपुर में महाराज द्वारा आयोजित कार्यक्रम में इन कानूनों के तहत कोई कार्रवाई नहीं बनती है। वीडियो में, बागेश्वर महाराज को ‘हनुमान चालीसा’ की कुछ पंक्तियों जैसे ‘‘भूत पिशाच निकट नहीं आवे’’ का पाठ करते हुए देखा जा सकता है, जो कि काला जादू नहीं है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने मानव को एक पत्र जारी किया है जिसमें कहा गया है कि बागेश्वर महाराज के खिलाफ कोई अपराध दर्ज नहीं किया जा सकता है।’’

भाषा

देवेंद्र पवनेश

पवनेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)