राउत ने छत्रपति शिवाजी महाराज पर टिप्पणियों को लेकर भाजपा, शिंदे सरकार पर साधा निशाना |

राउत ने छत्रपति शिवाजी महाराज पर टिप्पणियों को लेकर भाजपा, शिंदे सरकार पर साधा निशाना

राउत ने छत्रपति शिवाजी महाराज पर टिप्पणियों को लेकर भाजपा, शिंदे सरकार पर साधा निशाना

: , December 2, 2022 / 09:23 PM IST

नासिक, दो दिसंबर (भाषा) राज्यसभा सदस्य संजय राउत ने कुछ सार्वजनिक हस्तियों द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज के खिलाफ की गई कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों को लेकर ‘‘चुप्पी’’ साधे रखने के लिए शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की आलोचना की और चेतावनी दी कि मराठा योद्धा के इस ‘‘अपमान’’ का बदला लिया जाएगा।

राउत ने कहा कि जहां भाजपा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अपमान वाली टिप्पणियों के प्रति संवेदनशील है, वहीं पार्टी 17वीं सदी के मराठा योद्धा राजा के खिलाफ की गई टिप्पणियों पर चुप रहती है।

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और राज्य के पर्यटन मंत्री मंगल प्रभात लोढ़ा को छत्रपति शिवाजी महाराज पर उनकी हालिया टिप्पणियों के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा था।

राउत ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमा विवाद को लेकर महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे नीत सरकार पर भी निशाना साधा और कहा कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री वर्तमान सरकार के मुंह पर ‘‘थूक’’ रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार का कोई स्वाभिमान नहीं है।

शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता महाराष्ट्र के सांगली जिले की जठ तहसील के कुछ गांवों में पानी छोड़ने संबंधी कर्नाटक सरकार के कदम पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। तहसील पानी की किल्लत से जूझ रही है।

राउत ने कहा, ‘‘उन्हें (सरकार को) कर्नाटक द्वारा छोड़े गए पानी में डूब जाना चाहिए। महाराष्ट्र ने पिछले 50-55 सालों में कभी इस तरह के हमले का सामना नहीं किया। पड़ोसी राज्य के मुख्यमंत्री आपको चुनौती दे रहे हैं…कहां है आपका स्वाभिमान? कर्नाटक के मुख्यमंत्री सरकार के मुंह पर थूकते हैं।’’

शिवसेना (यूबीटी) नेता ने आरोप लगाया कि छत्रपति शिवाजी महाराज का हर रोज अपमान किया जा रहा है।

उन्होंने चेतावनी दी, ‘‘छत्रपति शिवाजी महाराज पर हमले और महाराष्ट्र के अपमान पर भी भाजपा चुप है। देखिये भाजपा को छत्रपति शिवाजी से कितना प्यार है। मेरी बात याद रखना। छत्रपति शिवाजी के अपमान का बदला लिया जाएगा।’’

पिछले महीने, कोश्यारी ने छत्रपति शिवाजी महाराज को ‘‘पुराने जमाने’’ का प्रतीक कहकर एक विवाद खड़ा कर दिया था, इस टिप्पणी को मराठा राजा और राज्य का ‘‘अपमान’’ बताया गया था।

राउत ने कहा, ‘‘गुजरात में एक चुनावी रैली में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना ‘रावण’ से की। प्रधानमंत्री ने इसे गुजरात का अपमान बताया और चुनाव में इसे बड़ा मुद्दा बना दिया। महाराष्ट्र में भाजपा और शिंदे गुट छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान पर चुप हैं।’’

शिवसेना (यूबीटी) नेता ने दावा किया कि शिवाजी महाराज का अपमान करने के लिए भाजपा में प्रतिस्पर्धा है।

राउत ने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा को मोदी का अपमान दिखता है, छत्रपति शिवाजी महाराज का नहीं। भाजपा में शिवाजी महाराज का अपमान करने की होड़ मची हुई है।’’

राउत ने कहा कि जून में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में विधायकों के एक समूह के विद्रोह के बाद भी एक संगठन के रूप में शिवसेना बरकरार है। उन्होंने कहा, ‘‘शिवसेना आज भी जस की तस है। कुछ विधायकों की बगावत से कोई फर्क नहीं पड़ता। मुझे इन (बागी) विधायकों का कोई (राजनीतिक) भविष्य नहीं दिखता क्योंकि वे डरे हुए हैं और उन्हें सुरक्षा की जरूरत है। यहां तक कि लोग उनसे नाराज भी हैं।’’

भाषा

देवेंद्र माधव

माधव

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)