आईपीएस में 160वीं रैंक, सागर की सफलता की एक कहानी

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 17 Apr 2019 02:14 PM, Updated On 17 Apr 2019 02:20 PM

पिपरिया। एक मध्यम वर्गीय परिवार के सागर जैन की सफलता की कहानी ने परिवार ही नहीं शहर का नाम रोशन कर दिया है, यू तो हर पिता की ख्वाहिश होती है कि बेटा कामयाब हो पर ऐसा आजकल कम ही सुनने में आता है कि पिता कहे मैं अपने बेटे की कामयाबी से संतुष्ट हूं, जी हां पिपरिया के एक छोटे से व्यापारी अशोक जैन के बेटे सागर जैन ने ऐसा ही कुछ कर दिखाया है।

ये भी पढ़ें: सीएम बघेल ने साहू को मोदी बताने वाले बयान पर ली चुटकी, कह दी ये बड़ी बात.. 

सागर जैन की प्रारंभिक पढ़ाई पिपरिया में हुई और अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद प्राइवेट जॉब करने लगा पर पढ़ाई और आगे बढ़ने का जूनून था, जिसके बाद सागर ने दिल्ली जाकर आईपीएस की तैयारी शुरु कर दी, जिसका परिणाम अब सबके सामने हैं। सागर जैन ने आईपीएस में 160 वीं रैंक हासिल की है।

ये भी पढ़ें: राहुल ने वायनाड में खुद को बताया अलग, कहा -मैं झूठ बोलने नहीं, संबंध बनाने आया

सागर जैन के अनुसार आईपीएस की तैयारी के दौरान अपने लक्ष्य को पाने के लिए उन्होंने मोबाइल और सोशल नेटवर्क से दुरी बना कर रखी, इसके साथ ही त्योहारों और शादियों में शामिल नहीं हुए, ताकि अपने समय का ज्यादा से ज्यादा सदुपयोग कर सकें। वहीं सागर की सफलता पर परिवार ही नहीं पूरे जिले को गर्व है..और लोगों ने रेलवे स्टेशन पर सागर जैन का जोरदार स्वागत किया।

Web Title : 160th rank in IPS, a story of the success of the ocean

जरूर देखिये