scorecardresearch It is not the court's job to evaluate the decision to live in a live-in relationship: HC | लिव-इन रिलेशनशिप में रहने के फैसले का मूल्यांकन करना अदालत का काम नहीं : उच्च न्यायालय
lazy loader image

लिव-इन रिलेशनशिप में रहने के फैसले का मूल्यांकन करना अदालत का काम नहीं : उच्च न्यायालय

Reported By: Bhasha,

Published on 08 Jun 2021 04:06 PM, Updated On 08 Jun 2021 04:06 PM

lazy loader image
lazy loader image

इस खबर को आईबीसी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।

Web Title : It is not the court's job to evaluate the decision to live in a live-in relationship: HC

lazy loader image
lazy loader image