रमन और मंतूराम की मुलाकात को भूपेश ने बताया चोर की दाढ़ी में तिनका, सिद्धीकी ने मांगी सुरक्षा

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 31 Jan 2019 05:26 PM, Updated On 31 Jan 2019 05:26 PM

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व मुख्यमंत्री और मंतूराम पवार की मुलाक़ात पर तंज कसते हुए कहा है कि मुलाक़ात में क्या सिखाए-पढ़ाए है, और मिलने की क्या ज़रूरत थी। भूपेश ने दोनों की मुलाक़ात को चोर की दाढ़ी में तिनका बताया।

उन्होंने कहा कि रमन के राज में कांकेर, बिलासपुर, रायपुर में एफआईआर हुई थी, वह ख़त्म नहीं हुई इसीलिए जांच करा रहे हैं। बता दें कि अंतागढ़ टेपकांड की जांच कर रही एसआईटी ने मंतूराम पवर को आज (गुरुवार को) तलब किया। एसआईटी के पास जाने से पहले मंतूराम ने पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह से मुलाक़ात की। मुलाकात डॉ सिंह के मौलश्री विहार स्थित बंगले में हुई और करीब एक घंटे चली। इस दौरान भाजपा विधि प्रकोष्ठ के अध्यक्ष नरेश गुप्ता भी साथ मौज़ूद थे।

बता दें कि मंतूराम पर पर अंतागढ़ विस उपचुनाव में पैसे लेकर नामांकन वापस लेने का आरोप है। हालांकि मीडिया से चर्चा में मंतूराम पवार ने कहा कि SIT ने मुझे क्यों बुलाया, मैं नहीं जानता। उन्होंने कहा कि एसआईटी की जांच बदले की भावना है। SIT बदनाम करने और लोस चुनाव के लिए गठित हुई है। अंतागढ़ मामले को हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया है। अंतागढ़ मामले पर जिन्होंने पैसा लिया और दिया वो जानें।

यह भी पढ़ें : सीएम भूपेश पीएमओ को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम की तारीख बदलने की करेंगे मांग 

इधर एक अन्य महत्वपूर्ण घटनाक्रम में अंतागढ़ टेपकांड के खुलासाकर्ता फिरोज सिद्दीकी ने एसपी को एक आवेदन देकर अपने लिए सुरक्षा मांगी है। आवेदन में कहा गया है कि मामले को देखते हुए उनकी जान की सुरक्षा को खतरा है, इसलिए उन्हें सुरक्षा मुहैया कराए जाए।

Web Title : Bhupesh called meeting of Raman and Manturam to chor ki dadhi me tinka

जरूर देखिये