नाबालिग होने के शक में पुलिस ने रुकवाई थी शादी, मेडिकल जांच में दुल्हन निकली बालिग

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 19 Jul 2019 10:03 PM, Updated On 19 Jul 2019 10:03 PM

ग्वालियर: ना​बालिग होने के शक में महिला बाल विकास और पुलिस ने जिस युवती की शादी रूकवा दी थी, अंतत: 10 दिन उसका मेडिकल जांच हो ही गया। मेडिकल जांच में युवती को बालिग प्रमाणित किया गया है। इसके बाद पुलिस ने युवती को घर भेज दिया है। बता दें कि महिला एवं बाल विकास विभाग और पुलिस की टीम ने युवती को बिदाई से पहले हिरासत में ले लिया था। इस दौरान युवती को सखी वन स्टॉप सेंटर में रखा गया था। युवती न घर जा पा रही थी न तो ससुराल।

Read More: देह व्यापार के काले कारोबार का भांडाफोड़, तीन युवतियां और 3 युवक संदिग्ध अवस्था में पकड़ाए

मिली जानकारी के अनुसार ग्वालियर महिला एवं बाल विकास विभाग और पुलिस की टीम ने 10 दिन पहले यानि 8 जुलाई को ठाठीपुर थाना क्षेत्र के नदी पारा इलाके में दूल्हा और दुल्हन को शादी के मंडप से नाबालिग होने की शंका पर हिरासत में ले लिया था। बताया गया कि दुल्हन की सिर्फ विदाई ही बाकी थी। इससे पहले उसे हिरासत में ले लिया गया था।

CG Assembly Monsoon Session: दिनभर चर्चा के बाद विधानसभा में पास हुआ 4341 करोड़ 52 लाख रुपए का अनुपूरक बजट

असमंजस होने पर दोबार किया गया मेडिकल जांच
जिला प्रशासन की टीम ने पहले भी दुल्हन का मेडिकल जांच किया था, जिसमें बालिग होना प्रमाणित किया गया था। लेकिन असमंजस की स्थिति होने के कारण दोबार मेडिकल जांच किया गया। इस संबंध में कलेक्टर ने सीईओ जिला पंचायत से रिपोर्ट मंगाई थी।

Read More: जवानों को बस्तर में बड़ी सफलता, एक साल में 96 नक्सलियों का खात्मा, पर्चा फेंककर किया कबूल

10 दिनों तक वन स्टाप सेंटर में रही दुल्हन
युवती को मेडिकल परीक्षण के लिए 10 दिन का इंतजार करना पड़ा। इस दौरान जिला प्रशासन ने युवती को सखी वन स्टाप सेंटर में रखा।

Read More: सुरेन्द्रनाथ सिंह को 30-30 हजार के मुचलके पर जमानत, सड़कों पर CM कमलनाथ का खून बहाने की कही थी बात

Web Title : bridegroom prove adult after medical test

जरूर देखिये