UNSC की अनौपचारिक बैठक में चीन-पाक को झटका, भारत ने कहा- अंतकवाद के खात्मे के बाद होगी बात

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 16 Aug 2019 11:24 PM, Updated On 16 Aug 2019 11:24 PM

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को लेकर शुक्रवार को हुई यूएन की अनौपचारिक बैठक में चीन और पाकिस्तान को करारा झटका लगा है। बैठक में दोनों देशों की उम्मदों पर पानी फेरते हुए सभी देशों ने भारत का समर्थन किया है। चर्चा के दौरान सभी देशों ने भारत के पक्ष में खड़े रहने की बात कही। इसके साथ ही भारत ने अपना रूख साफ करते हुए कहा है कि अनुच्छेद 370 को हटाना भारत का आंतरिक मामला है और इससे अंतरराष्ट्रीय समुदाय का कोई सरोकार नहीं है।

Read More: पुलिस भी रह गई दंग, जब विधायक के घर छापेमार कार्रवाई के दौरान मिला AK47 और जिंदा कारतूस

बैठक के बाद यूएन में मौजूद भारतीय प्रतिनिधि अकबरुद्दीन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि भारत तमाम समझौतों का सही तरीके से पालन कर रहा है, लेकिन कुछ लोग भारत सरकार के फैसलों को लेकर दुनिया के कई देशों को गुमराह करने में लगे हुए हैं। जम्मू-कश्मीर में हालात समय के साथ अब सुधरने लगे हैं। सुबह ही मुख्य सचिव ने सामान्य हालात के लिए कई उपायों की घोषणा की है।


Read More: पुलिस महकमे में फेरबदल, निरीक्षकों का तबादला आदेश जारी

अकबरुद्दीन ने आगे कहा कि दुनिया में एक देश ऐसा है जो जिहाद के नाम हिंसा भड़काने का काम कर रहा है। हिंसा किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। भारत पाकिस्तान या दुनिया के किसी भी मुद्दे का हल बातचीत ही है। भारत और पाकिस्तान के बीच 1972 में समझौता हुआ और हम उस पर कायम हैं। हम उम्मीद करते हैं पाकिस्तान भी इस पर कायम रहेगा। भारत और पाकिस्तान के बीच कब बातचीत होगी? इस सवाल के जवाब में अकबरुद्दी ने कहा कि आतंकवाद रोकने पर ही बातचीत होगी।


Read More: मंत्री लखन घनघोरिया का विवादित बयान, कहा- कैलाश सारंग के बेटे हैं विधायक विश्वास सारंग, सबूत दें

इस मुद्दे पर रूस ने कहा कि भारत-पाकिस्तान दोनों हमारे अच्छे दोस्त हैं। हमसे कुछ छिपा नहीं है। हमारा कोई छुपा हुआ अजेंडा नहीं है। इसलिए उनके बीच सुलह और अच्छे रिश्ते के लिए इस्लामाबाद और नई दिल्ली के साथ खुले दिल से बात करते रहेंगे।

Read More: मंत्री बन गए कवासी लखमा तो क्या हुआ? अब भी रखते हैं माटी से गहरा लगाव, काफिला रोक पहुंचे अपने खेत

Web Title : China-Pakistan attempt to censure India at UN Security Council fails.

जरूर देखिये