सीएम ने व्यापम को बंद करने के दिए निर्देश, अब प्रदेश में सीधी भर्ती से होगी नियुक्तियां

 Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 06 Jul 2019 07:01 PM, Updated On 06 Jul 2019 07:01 PM

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने प्रदेश में व्यापम को बंद करने की तैयारी कर ली है। सीएम कमलनाथ ने व्यापम के विकल्प के रूप में नया सिस्टम बनाने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद अब प्रदेश में सीधी भर्ती से नियुक्तियां की जाएगीं।

ये भी पढ़ें - केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह का राज्य सरकार पर हमला, प्रभारी मंत्री की बैठक, प्रशासन की हंसी, जीरो ईयर, सीएम के पत्र जैसे कई मुद्दों पर सरकार को घेरा...पढ़िए

बता दें कि राज्य सरकार ने व्यापम को पूरी तरह बंद करने का निर्णय लिया है। भाजपा की सरकार ने व्यापम घोटाले के बाद देश भर में हुई किरकिरी को देखते हुए व्यापम का नाम बदलकर पीईबी कर दिया था। लेकिन इससे आगे बढ़कर अब कांग्रेस नीत वाली कमलनाथ सरकार ने इसे बंद करके सीधी भर्ती करने का निर्णय लिया है।

ये भी पढ़ें- गौठानों और चारागाहों में पौधा वितरण और वृक्षारोपण का चलेगा अभियान, वैज्ञानिक तरीके से होगा नरवा का ट्रीटमेंट

बता दें कि व्यापम घोटाले को लेकर बहुचर्चित रहा है। यह बात सन 2013 में तब सामने आई जब इंदौर पुलिस ने 2009 की पीएमटी प्रवेश से जुड़े मामलों में 20 नकली अभ्यर्थियों को गिरफ़्तार किया जो असली अभ्यर्थियों के स्थान पर परीक्षा देने आए थे। इन लोगों से पूछताछ के दौरान जगदीश सागर का नाम घोटाले के मुखिया के रूप में सामने आया जो एक संगठित रैकेट के माध्यम से इस घोटाले को अंजाम दे रहा था। जगदीश सागर की गिरफ़्तारी के बाद राज्य सरकार ने 26 अगस्त 2013 को एक विशेष कार्य बल (एसटीएफ) की स्थापना की और बाद की जाँच और गिरफ्तारियों से घोटाले में कई नेताओं, नौकरशाहों, व्यापम अधिकारियों, बिचौलियों, उम्मीदवारों और उनके माता-पिता की घोटाले में भागीदारी का पर्दाफाश हुआ।

Web Title : CM gives instructions for closure of VYAPAM in state

जरूर देखिये