Congress General Secretary Motilal Vora pay tribute to Former Finance Minster | पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर कांग्रेस महासचिव मोतीलाल वोरा ने जताया शोक, ट्वीट कर कही ये बात...

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर कांग्रेस महासचिव मोतीलाल वोरा ने जताया शोक, ट्वीट कर कही ये बात...

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 24 Aug 2019 04:03 PM, Updated On 24 Aug 2019 04:03 PM

रायपुर: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद मोतीलाल वोरा और उनके पुत्र व दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने शोक जताया है। वोरा ने ​ट्वीट कर लिखा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं राज्यसभा के साथी सदस्य श्री अरुण जेटली के निधन का हृदय विदारक समाचार मिलने से मन व्यथित है। इस असीम दुख की घड़ी में मैं ईश्वर से शोक संतप्त परिजनों को संबल प्रदान करने एवं दिवंगत आत्मा को शांति देने की प्रार्थना करता हूं।

Read More: कर्मचारियों के उड़े होश.. जब 42 हजार रूपए के सिक्के बोरियों में भरकर बिल पटाने पहुंचा शख्स.. देखिए

गौरतलब है कि पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली लंबे समय से बीमार चल रहे थे। कुछ दिनों पहले ही उन्हें राजधानी दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जेटली की तबीयत लगातार बिगड़ रही थी और शनिवार दोपहर उनका निधन हो गया। जेटली 67 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गए।

Read More: प्रधानमंत्री मोदी ने जेटली के निधन पर दुख जताया, पीएम ने कहा राजनीतिक दिग्गज थे जेटली

24 Aug 201

ऐसा था अरुण जेटली का राजनीतिक जीवन

राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे अरुण जेटली अब हमारे बीच नही रहे। अरूण जेटली को मोदी सरकार—1 में एक संकट मोचक की भूमिका में माना जाता रहा है। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली एक अनुभवी राजनेता के साथ-साथ जाने-माने वकील भी थे। इनका जन्‍म 28 दिसंबर 1952 को नई दिल्‍ली के नारायणा विहार इलाके के मशहूर वकील महाराज किशन जेटली के घर हुआ था।

read more: जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने मंत्री इमरती देवी को लेकर कही ये बात, बीजेपी पर साधा निशाना

अरुण जेटली की प्राथमिक शिक्षा नई दिल्‍ली के सेंट जेवियर स्‍कूल में हुई। 1973 में इन्होंने श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से कॉमर्स में स्‍नातक की पढ़ाई पूरी की और लॉ की पढ़ाई करने के लिए 1977 में दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय में लॉ विभाग में दाखिला ले लिया। जेटली पढा़ई के साथ ही शिक्षण व अन्‍य कार्यक्रमों में भी भाग लेते रहे।

read more: वरिष्ठ भाजपा नेता ने की सिंधिया की जमकर तारीफ, कहा 'राहुल को सिंधिया से डर लगता है..कहीं चैलेंज न करें'

श्री जेटली के राजनैतिक कैरियर की शुरूआत तब हुई जब वे 1974 में दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय के विद्यार्थी संघ के अध्‍यक्ष चुन लिए गए। 1974 में अरुण जेटली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए। 1975 में आपातकाल के दौरान आपातकाल का विरोध करने के बाद उन्‍हें 19 महीनों तक नजरबंद रखा गया।

read more: नक्सलियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, 5 नक्सलियों के मारे जाने की खबर, दो जवान घायल

1973 में उन्होंने जयप्रकाश नारायण द्वारा चलाए जा रहे भ्रष्‍टाचार विरोधी आंदोलन में भी सक्रिय भूमिका निभाई। आपातकाल के बाद 1977 में वे हाईकोर्ट में अपनी वकालत की तैयारी करने लगे। सुप्रीम कोर्ट में जाने से पहले उन्होंने देश के कई हाईकोर्ट में अपनी तैयारी पूरी की। 1990 में अरुण जेटली ने उच्‍चतम न्‍यायालय में वरिष्‍ठ वकील के रूप में अपनी नौकरी शुरू की ​थी।

read more: सीएम को पूर्व सीएम की चेतावनी, कहा 'आपकी कुचलने वाली मानसिकता को ही कुचल देगें'

वहीं वीपी सिंह सरकार में उन्‍हें 1989 में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया गया। उन्‍होंने बोफोर्स घोटाले की जांच में पेपरवर्क भी किया। उन्होंने लॉ के कई लेख लिखे हैं। 1991 में वे भारतीय जनता पार्टी के सदस्‍य बन गए। 1999 के आम चुनाव में वे बीजेपी के प्रवक्‍ता बने और बीजेपी की केंद्र में सरकार आने के बाद उन्‍हें सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का स्‍वतंत्र प्रभार सौंपा गया। इसके बाद उन्‍हें विनिवेश का स्‍वतंत्र राज्‍यमंत्री बनाया गया।

read more: मंत्री इमरती देवी के बयान पर स्वास्थ्य मंत्री ने कही ये बात, इधर मिलावटखोरों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की तैयारी

राम जेठमलानी के कानून, न्‍याय और कंपनी अफेयर मंत्रालय छोड़ने के बाद जेटली को इस मंत्रालय का अतिरिक्‍त कार्यभार सौंपा गया। साल 2000 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद उन्‍हें कानून, न्‍याय, कंपनी अफेयर तथा शिपिंग मंत्रालय का मंत्री बनाया गया। 2006 में जेटली गुजरात से राज्‍यसभा के सदस्‍य बने। उन्होंने संविधान के 84वें और 91वें संशोधन में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई।

read more: एक मंदिर ऐसा भी...जहां जन्माष्टमी में यशोदा माता की पूजा के लिए देश...

2009 में जेटली राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष बने, जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में अमृतसर से हार गए, लेकिन केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने भरोसा जताते हुए उन्हें वित्तमंत्री के महत्वपूर्ण पद से नवाजा। जेटली ने देश में जीएसटी लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कुछ समय बाद उन्होंने रक्षामंत्री का दायित्व भी निभाया। हालांकि अस्वस्थता के चलते मोदी सरकार-2 में उन्होने स्वयं प्रधानमंत्री से सरकार में कोई भी जिम्मेदारी लेने से इनकार कर दिया।

read more: देशभर में धूमधाम से मनाया जा रहा है जन्माष्टमी पर्व, मंदिरों में कृ...

इसके बाद से वे लगातार बीमार होते गए, जेटली ने किडनी ट्रांसप्लांट भी कराया लेकिन उससे भी उन्हे कोई विशेष राहत नही मिली। 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हो गए उसके बाद से लगातार उनकी तबियत बिगड़ती गई और अंतत: आज 24 अगस्त 2019 को उन्होने आखिरी सांस ली।

Web Title : Congress General Secretary Motilal Vora pay tribute to Former Finance Minster

जरूर देखिये