Demand for making Manendragarh district after Gorela-Pendra-Marwahi | गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के बाद मनेंद्रगढ़ को जिला बनाने की मांग, संघर्ष समिति की बैठक में तय होगी आगे की रणनीति

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के बाद मनेंद्रगढ़ को जिला बनाने की मांग, संघर्ष समिति की बैठक में तय होगी आगे की रणनीति

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 16 Aug 2019 09:45 AM, Updated On 16 Aug 2019 09:45 AM

कोरिया। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही को जिला बनाने के बाद मनेंद्रगढ़ को निराशा हाथ लगी है। मनेंद्रगढ़ को जिला बनाने 21 साल से मांग की जा रही है। लेकिन पंद्रह अगस्त को जब पेंड्रा-गौरेला-मरवाही को जिला घोषित किया गया तो अलग जिले का सपना देख रहे मनेंद्रगढ़ के लोगों को निराशा हाथ लगी।

पढ़ें- शहीद भाई की बंदूक को राखी बांधकर कांस्टेबल बहन ने मनाया रक्षाबंधन, ...

मनेंद्रगढ़ को जिला नहीं बनाए जाने से निराश लोग निराश हैं। राम मंदिर में आज जिला बनाओ संघर्ष समिति की बैठक रखी गई है। बैठक में आगे की रणनीति की रूपरेखा तय की जाएगी। इससे पहले यहां जिले की मांग के लिए 11 दिन का बंद और 11 महीने की क्रमिक भूख हड़ताल हो चुकी है।

पढ़ें- युवती ने दो युवकों पर किया चाकू से हमला, लगाया छेड़छाड़ का आरोप

गौरतलब है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रदेशवासियों को कई महत्वपूर्ण सौगात दी। सीएम बघेल ने प्रदेश में एक नए जिले के निर्माण की घोषणा की। यह जिला 'गौरेला- पेण्ड्रा-मरवाही' के नाम से जाना जाएगा। इस तरह अब छत्तीसगढ़ 28 जिलों का राज्य बन जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने 25 नई तहसीलें भी बनाने की घोषणा की।

पढ़ें- इधर पूरा देश मन रहा था आजादी का जश्न, उधर CAF जवान ने खुद को गोली मारकर कर ली आत्महत्या

पटरियों में भरा पानी, कई ट्रेनें रद्द

Web Title : Demand for making Manendragarh district after Gorela-Pendra-Marwahi

जरूर देखिये