ई-टेंडर घोटाला, पूर्व मंत्री के दो निजी सहायक ईओडल्यू तलब, पूछताछ के बाद लिया जा सकता है हिरासत में

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 19 Jun 2019 06:06 PM, Updated On 19 Jun 2019 06:06 PM

भोपाल। मध्यप्रदेश में ई-टेंडर घोटाला मामले में पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के दो निजी सहायकों को ईओडब्ल्यू ने तलब किया है। ईओडब्ल्यू ने निर्मल अवस्थी और वीरेंद्र पांडे को तलब किया है। दोनों से पूछताछ चल रही है। यह पूछताछ गुजरात की एक कंपनी को ठेका दिलाने के आरोप में की जा रही है। पूछताछ के बाद उन्हें हिरासत में लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : सदस्यता अभियान को लेकर शिवराज सिंह की बैठक खत्म 

बता दें कि इससे पहले भोपाल ई-टेंडर घोटाले में ईओडब्ल्यू ने माइलस्टोन कंपनी के संचालक मनीष खरे को गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया है। आरोप है कि मनीष ने आस्मो कंपनी के साथ मिलकर ई-टेंडर में टेंपरिंग करते हुए गुजरात की सोरठिया वेलजी कंपनी को 105 करोड़ रुपए का टेंडर जारी कराया था। जांच एजेंसी को मनीष से 1.23 करोड़ के लेन-देन का हिसाब मिला था।

यह भी पढ़ें : पूर्व सीएम ने बताई मासूमों से रेप की मुख्य वजह 

बताया गया कि चूना भट्टी निवासी मनीष खरे एक कंपनी में सर्विस इंजीनियर था। 2015 में उसने माइलस्टोन बिल्डर्स एंड डेवलपर्स, माइलस्टोन इम्पोर्ट एंड एक्सपोर्ट, और माइलस्टोन मार्केट एवं डेवलपर नामक तीन कंपनियां बनाईं थी। 2016 से वह आस्मो के संपर्क में आया था।

Web Title : E-tender scam, EOW summoned two personal assistants of former Minister

जरूर देखिये