चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों से चुनाव प्रचार थमने के बाद चुप्पी बरतने के दिए निर्देश

 Edited By: Renu Nandi

Published on 17 May 2019 04:09 PM, Updated On 17 May 2019 04:09 PM

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने सभी पार्टी से मतदान के 48 घंटे पहले से चुप्पी बरतने का निर्देश दिया है। आयोग ने कहा है कि इस मौन अवधि के दौरान, स्टार प्रचारकों और अन्य राजनीतिक नेताओं को प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मीडिया को संबोधित करने और चुनाव मामलों पर साक्षात्कार देने से बचना चाहिए।



चुनाव आयोग ने बताया कि लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में बहुत से संसदीय क्षेत्र में अब से कुछ ही घंटो बाद चुनाव आचार सहिता के तहत 48 घंटे प्रचार थम जायेगा। इस दौरान कोई भी सामूहिक कार्यक्रम में जाने के लिए नेताओं को बचना चाहिए और यदि जाना भी पड़े तो ऐसे आयोजन में पार्टियों के लिए समर्थन मांगने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

दीजिए जवाब और जीतिए इनाम, आप सब से अनुरोध है इसे शेयर जरूर करें

Question 1 - देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा ?
Question 2 - देश में इस बार किसकी सरकार बनेगी ?
Question 3 - देश में किस पार्टी को मिलेगी बहुमत ?
Question 4 - चौकीदार का सियासी जुमला किसे फायदा पहुंचाएगा ?
Question 5 - छत्तीसगढ़ में सिटिंग सांसदों को बदलना बीजेपी के लिए फायदेमंद होगा ?
Question 6 - क्या छत्तीसगढ़ में कांग्रेस विस चुनाव वाला करिश्मा दोहरा पाएगी ?
Question 7 - क्या लोकसभा चुनाव में महागठबंधन असरदार होगा ?
Question 8 - क्या राफेल मुद्दे से कांग्रेस को फायदा पहुंचेगा ?
Question 9 - क्या एयर स्ट्राइक बीजेपी को चुनावी फायदा देगी ?
Question 10 - क्या इस बार वेस्ट बंगाल में बीजेपी कामयाब होगी ?
Question 11 - क्या राम मंदिर पर इस बार भी बीजेपी को वोट मिलेंगे ?
Question 12 - क्या कश्मीर के फ्रंट पर मोदी सरकार नाकाम रही है?
Question 13 - क्या आतंकवाद के खिलाफ मोदी सरकार की निति प्रभावी रही ?
Question 14 - क्या मप्र, छग, राजस्थान में बीजेपी का प्रदर्शन अच्छा रहेगा ?
Question 15 - क्या मध्य प्रदेश में बीजेपी प्रभावी प्रदर्शन करेगी ?
Question 16 -क्या दिग्विजय सिंह भोपाल का चुनाव जीत पाएंगे ?
Question 17- क्या छत्तीसगढ़ में इस बार मोदी लहर है ?
Question 18- क्या प्रियंका गाँधी कांग्रेस के लिए गुडलक साबित हो पाएंगी 

Web Title : Election Commission: During the silence period, star campaigners and other Political Leaders should refrain from addressing

जरूर देखिये