आम महोत्सव में छत्तीसगढ़ के स्वर्ण-प्रभा किस्म को पहला पुरस्कार, राज्य को मिले 12 प्रशस्ति पत्र

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 26 Jun 2019 09:18 PM, Updated On 26 Jun 2019 09:18 PM

रायपुर। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में 22 और 23 जून को आयोजित ‘आम महोत्सव-2019’ में छत्तीसगढ़ के स्वर्ण-प्रभा किस्म के आम को प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ। इसी तरह शासकीय नारियल प्रक्षेत्र, पामलवाया, जिला-बीजापुर का हाथी-झूल किस्म के आम ने महोत्सव आए सभी आगंतुकों को आकर्षित किया। इसी तरह उत्कृष्ट प्रदर्शनी के लिए छत्तीसगढ़ के स्टाल को प्रशंसा पत्र से सम्मानित किया गया। उप्र के राज्यपाल रामनाईक ने छत्तीसगढ़ राज्य को विभिन्न वर्गों में 12 प्रशस्ति पत्रों से नवाजा।

महोत्सव में छत्तीसगढ़ के स्टाल में यहां के हाथी-झूल प्रजाति के बड़े आकर को देख उसके साथ फोटो खीचने की भीड़ दोनों दिन निरंतर देखी गयी। छत्तीसगढ़ राज्य उद्यानिकी विभाग से आरके यादव, उद्यान विकास अधिकारी, जिला बिलासपुर एवं उनकी टीम ने राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए कुल 25 किस्म के आम, महोत्सव में प्रदर्शित किया। महोत्सव में अन्य राज्यों से भी कई किस्म के आम प्रदर्शित किये गये थे। लगभग 700 प्रजातियों के आम जिसमें मलिहाबाद का दशहरी, छत्तीसगढ़ का हाथी-झूल एवं छत्तीसगढ़ स्वर्ण-प्रभा मुख्य आकर्षण के केंद्र रहे।

यह भी पढ़ें : नई सरकार बनने के बाद अब तक 3 हजार से अधिक लोगों को 38 करोड़ रूपए की आर्थिक मदद 

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ स्वर्ण-प्रभा प्रजाति इसी वर्ष छत्तीसगढ़ शासन ने अनुशंसित की है। यह प्रजाति इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर छत्तीसगढ़ के फल वैज्ञानिक मुख्यतः डॉ. प्रभाकर सिंह, वर्तमान में उद्यानिकी विभाग के संचालक, डॉ. विजय जैन, डॉ. जी एल शर्मा और डॉ. हेमंत पाणिग्रही ने विकसित की है। छत्तीसगढ़ स्वर्णप्रभा की खास बात यह है कि इनका नियमित फलन होता है और यह स्वादिष्ट होते हैं। इनमे रेशे कम होते हैं एवं पल्प मक्खन की तरह होता है। यह फल टेबल तथा प्रसंस्करण दोनो दृष्टि से उपयोगी है।

यह भी पढ़ें : निगमकर्मियों की बैट से पिटाई के बाद बीजेपी विधायक बोले- गुस्से में था, याद नहीं 

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव उद्यान अमित मोहन प्रसाद, निदेशक उद्यान आरपी सिंह तथा उद्यान मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी छत्तीसगढ़ के स्टाल में शिरकत की और इसके उत्कृष्ट प्रदर्शनी की मुक्त कंठ से प्रशंसा की।

Web Title : First prize for swarna-prabha variety of Chhattisgarh in mango Festival

जरूर देखिये