पांच साल के शौर्य को आरक्षक के रूप में अनुकंपा नियुक्ति, एसपी ने लगाया गले

Reported By: Arun Soni, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 04 Feb 2019 09:35 AM, Updated On 04 Feb 2019 11:49 AM

बलरामपुर। बलरामपुर जिले के बसंतपुर थाने में पदस्थ रहे आरक्षक अनूप कुमार मिश्र के निधन के दो साल बाद उनके 5 साल के बेटे शौर्य को आरक्षक के रूप में अनुकंपा दी गई है। मासूम शौर्य ने अपनी मां, बहन व दूसरे परिजनों के साथ बलरामपुर पुलिस लाइन में बाल आरक्षक के तौर पर नौकरी ज्वाइन की है नन्हे शौर्य को नियुक्ति प्रदान करने के बाद SP ने उसे गले लगाया।IBC-24

पढ़ें- राहुल गांधी की "जन आकांक्षा रैली” में भूपेश की दिखी अहमियत, 

DSP एन एल घृतलहरे ने बताया कि शौर्य के पिता अनूप मिश्रा की गंभीर बीमारी के चलते ड्यूटी के दौरान ही मौत हो गई थी। अनूप की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति के लिए परिजनों ने उसके बेटे शौर्य को इसके लिए चुना। चूंकि पहले शौर्य की उम्र काफी कम थी। इसलिए अब पांच साल की उम्र पूरा होने पर पुलिस अधीक्षक ने उसे बाल आरक्षक के रूप में ज्वाइनिंग दी है।

पढ़ें-सिंहदेव ने थाईलैंड से लौटते ही सुपेबेड़ा किडनी पीड़ितों से की मुलाकात, गंभीर मरीजों को 

शौर्य की पढ़ाई प्रभावित न हो, इसके लिए SP ने उसकी पदस्थापना वाड्रफनगर पुलिस चौकी में कराई है। जहां शौर्य के दादा की भी पोस्टिंग है। DSP ने बताया की शौर्य को वो सारी सुविधाएं मिलेंगी जो एक आरक्षक को मिलती हैं। पति की मौत के बाद बेटे को बाल आरक्षक के रूप में देखकर मां रश्मि मिश्र भावुक नज़र आईं। वो अपने बेटे को एक बड़ा अफसर बनना देखना चाहती है।

Web Title : Five years of bravery, compassionate appointment as the reserve

जरूर देखिये