3 महीने से नहीं मिला था वेतन, सीएम के निर्देश पर छुट्टी के दिन शिक्षकों को मिली रूकी सैलरी

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 16 Jun 2019 06:53 PM, Updated On 16 Jun 2019 06:53 PM

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिक्षकों के वेतन लंबित रहने के मामले को गंभीरता से लिया है और अधिकारियों को लंबित मामलों का परीक्षण कर तत्काल उनका निराकरण करने के निर्देश दिए हैं।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर आज छुट्टी के दिन भी दफ्तर खोलकर बिलासपुर जिले के नगर पंचायत कोटा और तिफरा, महासमुंद जिले के नगर पंचायत बसना के शिक्षकों का पिछले 3 माह से रुका वेतन तत्काल उनके बैंक खातों में जमा कराया गया है।

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने 19 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक, एक राष्ट्र एक चुनाव पर हो सकती 

रायगढ़ जिले के जनपद पंचायत घरघोड़ा के शिक्षकों का वेतन जमा कराने के निर्देश दिए गए हैं।बता दे कि यहां के शिक्षकों ने मुख्यमंत्री को उनके ट्यूटर में ट्वीट कर पिछले 3 माह से वेतन नहीं मिलने की जानकारी दी थी। इसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसे गंभीरता से लेते हुए तत्काल अधिकारियों को शिक्षकों का वेतन देने के निर्देश दिए। वहीं मुख्यमंत्री के निर्देश को फौरन अमल करते हुए अधिकारियों ने वेतन संबंधित शिक्षकों के बैंक खातों में जमा करा दिया है।

ये भी पढ़ें: भाजपा कार्यसमिति की बैठक खत्म, राज्य सरकार के खिलाफ कई मुद्दों पर बनी रणनीति

बता दे कि शिक्षकों के तीन महीने के वेतन की राशि नगरपालिका परिषद तिफरा द्वारा 7 लाख 95 हजार, बसना नगर पंचायत द्वारा 30 लाख 31 हजार 506 रूपए, कोटा नगर पंचायत द्वारा 24 लाख 19 हजार 506 रूपए बैंक खातों में जमा कराया गया है। नगर पालिका परिषद तखतपुर अंतर्गत कार्यरत शिक्षकों को पिछले चार माह का वेतन भुगतान नहीं होने पर भी संज्ञान लेते हुए नगरीय प्रशासन विभाग के अधिकारियों एवं तखतपुर नगर पालिका के सीएमओ से जवाब तलब किया गया है। इसके साथ ही नगरीय निकायों के शिक्षकों के वेतन भुगतान लंबित होने पर नगरीय प्रशासन विभाग के संयुक्त संचालक बीपी काशी, अनुदान शाखा के कार्यपालन अभियंता श्याम पटेल और ईश्वर ताम्रकार को नोटिस जारी किया गया है।

Web Title : For 3 months, salary was not received by the teachers on leave, on the instructions of CM

जरूर देखिये