ई-रिक्शा के मेंटनेंस में फर्जीवाड़ा, पांच महीनों में 30 ई-रिक्शा पर करीब 18 लाख खर्च

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 11 Jan 2019 03:40 PM, Updated On 11 Jan 2019 03:40 PM

अंबिकापुर। अंबिकापुर नगर निगम में ई-रिक्शा के मेंटेनेंस में जमकर फर्जीवाड़ा सामने आया हैं। यहां 5 महीनों में ही 30 ई रिक्शा के मेंटेनेंस पर 17 लाख 75000 रुपये खर्च कर दिए गए। गंभीर बात ये है कि एक ही साथ सभी रिक्शों की बैटरी बदल दी गई तो वहीं कई रिक्शों के बैटरी 4 से 5 बार बदल दिए गए। यही नहीं दूसरे मेंटेनेंस कार्य में भी फर्जीवाड़ा सामने आया हैं।

पढ़ें-28 जनवरी को छत्तीसगढ़ आ सकते हैं राहुल गांधी, बस्तर और रायपुर में आमसभा संभव

आरटीआई के जरिए सामने आए दस्तावेजों में खुलासा हुआ है कि निगम के द्वारा केपी फैब्रिकेटर्स नामक कंपनी को ई रिक्शा मेंटेनेंस का कार्य दिया गया। शिकायतकर्ता पार्षद का आरोप है कि अधिकारी और मेंटेनेंस एजेंसी मिलीभगत कर निगम के राशि को चूना लगा रही है ऐसे में शिकायतकर्ता पार्षद ने इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई की मांग की। हालांकि महापौर का कहना है कि मॉनिटरिंग के अभाव में इस तरह की गड़बड़ी हुई महापौर का कहना है कि जांच रिपोर्ट के आधार पर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Web Title : Forgery in e-rickshaw maintenance

जरूर देखिये