दम घुटने से हुई मंडीद्वीप में छत्तीसगढ़ के परिवार के चार सदस्यों की मौत, पीएम रिपोर्ट में खुलासा

 Edited By: Sanjeet Tripathi

Published on 23 Jan 2019 12:12 PM, Updated On 23 Jan 2019 12:12 PM

भोपाल/रायपुर। मप्र की राजधानी से सटे रायसेन जिले के औद्यौगिक क्षेत्र मंडीदीप में दिल्ली के बुराड़ी जैसी दिल दहला देने बाली घटना सामने आने के बाद पोस्टमार्टम में खुलासा हुआ है कि परिवार के चारों सदस्यों की मौत दम घुटने से हुई, मौत का कारण कार्बन मोनोआक्साइड गैस बनी है। यह परिवार मूलत: छत्तीसगढ़ निवासी था। घटना की जानकारी सामने आने के बाद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पीड़ित परिवार की पूरी मदद करने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि मंडीदीप की हिमांशु मेगा सिटी रहवासी कालोनी में मंगलवार को 24 घंटे से बंद मकान में 2 बच्चों सहित 4 लोगों के शव मिला था। परिवार के मुखिया को गंभीर अवस्था मे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। नगर के वार्ड 23 स्थित हिमांशु कालोनी के मकान नम्बर सी 55 में 25 वर्षीय सन्नू अपने परिवार के साथ रहता है। सन्नू के पड़ोसी नितिन चौहान ने बताया कि मंगलवार शाम करीब 7 बजे सन्नू को किसी काम के लिए आवाज़ लगाई तो कोई जवाब नहीं आया। आसपास के कुछ लोगों को बताकर फिर आवाज लगाई तो अंदर से बहुत धीमी आवाज सुनाई दी।

इसके बाद पुलिस को सूचना देकर मौके पर बुलाकर दरवाजा खटखटाया। दरवाजा नहीं खुलने पर पुलिस ने दरवाजा तोड़ दिया। दरवाजा खुलने के घर के भीतर पांच लोग अचेत अवस्था मे मिले। पुलिस ने जब उन्हें हिलाकर देखा तो सन्नू की सांस चल रही थी जबकि उसकी पत्नी पूर्णिमा, 12 दिन की बेटी और कुछ दिन पहले महाराष्ट्र से आए 11 वर्षीय साले ओर सास की मौत हो चुकी थी। पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। नितिन ने बताया कि सन्नू सोमवार शाम 6 बजे आखिरी बार उसे मिला था।

यह भी पढ़ें : रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर निगम कमिश्नर्स को हाईकोर्ट की फटकार, पूछा- लोगों को कब मिलेगा पीने का साफ पानी 

उसने बताया कि उसके बाद मंगलवार को दिनभर सन्नू के परिवार का कोई सदस्य बाहर नजर नहीं आया। शक होने पर शाम 7 बजे आवाज लगाकर उसे बाहर बुलाया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिलने पर पुलिस को सूचना दी गई थी। सन्नू कॉलोनी के पास स्थित एक निजी कंपनी में काम करता था और मूलतः छत्तीसगढ़ का रहने वाला था। कॉलोनी में किराए का मकान लेकर रह रहा था।

Web Title : Four members of Chhattisgarh family died in Mandideep

जरूर देखिये