पटाखा बैन पर खफा राज्यपाल बोले, "अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे"

Reported By: Aman Verma, Edited By: Aman Verma

Published on 11 Oct 2017 01:15 PM, Updated On 11 Oct 2017 01:15 PM

 

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर रिहायशी इलाकों में पटाखा बिक्री पर लगी रोक को लेकर विभिन्न सोशल मीडिया साइट्स पर बहस छिड़ी हुई है। अब इस बहस में नया नाम जुड़ गया है। त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राॅय ने अपने ट्विटर आकउंट @tathagata2 से टवीट करते हुए लिखा, कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है प्रदूषण का हवाला देकर मोमबत्ती और अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे

दिल्ली में 1 नवंबर तक पटाखा बैन, शांत मनेगी दीवाली

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बिक्री बैन पर पिछले साल लगाई रोक को जारी रखते हुए। पुलिस द्वारा पटाखा ब्रिकी के लिए दिए गए स्थायी और अस्थायी दोनों ही लायसेंस रद्द कर दिए है। इसी रोक को लेकर सोशल साइट्स पर महाभारत छिड़ी हुई है। राज्यपाल तथागत राॅय के पहले मशहूर लेखक चेतन भगत ने भी इन प्रतिबंधों पर सवाल उठाए @chetan_bhagat ने लिखा केवल हिंदू पर्वों पर प्रतिबंध लगाने का साहस क्यों? क्या बकरे की कुर्बानी, मुहर्रम पर बहाए जाने वाले खून पर भी प्रतिबंध लगेगा? वे आगे लिखते है कि पटाखों के बिना दिवाली वैसी है जैसे क्रिसमस ट्री के बिना क्रिसमस और बकरे की कुर्बानी के बिना बकरीद

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ "शारीरिक संबंध बनाना दुष्कर्म"

गौरतबल है कि पिछले साल लगाई गई रोक को सुप्रीम कोर्ट ने 12 सितंबर को वापस ले दिया था जिसमें कुछ शर्तों के साथ पटाखा बिक्री पर लगी रोक को हटा लिया गया था। इसी फैसले को वापस लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। जिसपर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने पटाखा बिक्री में दी गई छूट को वापस ले लिया।  

Web Title : governor says on cracker ban, Putting petitions on burning Hindus' pyre too

जरूर देखिये