आईपीएस विजय कुमार जम्मू कश्मीर में निभा सकते हैं बड़ी भूमिका, विरप्पन को किया था ढेर

 Edited By: Abhishek Mishra

Published on 10 Aug 2019 12:26 PM, Updated On 10 Aug 2019 12:26 PM

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में पूर्व आईपीएस अफसर विजय कुमार बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। उन्हें जम्मू कश्मीर का उपराज्यपाल बनाए जाने की चर्चा है। ऐसा होता है तो वे घाटी के पहले उपराज्यपाल होंगे। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद उसे विशेष राज्य से केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया है। विजय कुमार तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस अफसर हैं। वर्तमान में वो राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार हैं।

पढ़ें- रूस ने आर्टिकल 370 हटाने का किया समर्थन, कहा- भारत ...

विजय कुमार वही आईपीएस अफसर हैं जिन्होंने कर्नाटक और तमिलनाडु पुलिस के लिए सिरदर्द बना विरप्पन को मौत की नींद सुलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

पढ़ें-क्यों मौत को गले लगा रहे जवान, अब जज के बंगले पर होमगार्ड के 

विजय कुमार तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। 1998-2001 के बीच वो कश्मीर वैली में बीएसएफ के इंस्पेक्टर जनरल थे। 65 साल के विजय कुमार उस वक्त सबसे ज्यादा चर्चे में रहे जब वो स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसटीएफ में तैनात थे। साल 2004 में चंदन तस्कर वीरप्पन को घेर कर उसे उसके अंजाम तक पहुंचाने वालों में के विजय कुमार का नाम शुमार है। 2010 में जब नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ के 75 जवानों की हत्या कर दी, तब नक्सलियों पर नकेल कसने के लिए के विजय कुमार को सीआरपीएफ का डायरेक्टर जनरल बनाया गया था।

पढ़ें-सुरक्षाबलों को कामयाबी, 1 इनामी सहित 3 नक्सली गिरफ्तार.. देखिए

10वीं की छात्रा की गला रेतकर हत्या

Web Title : IPS Vijay Kumar can play a big role in Jammu and Kashmir

जरूर देखिये