जांजगीर में अब भी जारी है फर्जी राशन कार्ड का खेल,आंकड़े चौकाने वाले पूरी आबादी है गरीब

Reported By: Rajkumar Sahu, Edited By: Renu Nandi

Published on 11 Jan 2019 10:37 AM, Updated On 11 Jan 2019 10:37 AM

जांजगीर।चाम्पा जिले में बीते 5 साल में 1 लाख 4 हजार राशन कार्ड को निरस्त किया गया है। फिर भी जिले में अभी भी 4 लाख 25 हजार राशन कार्ड है इसे देखने के बाद लग रहा है कि पूरी आबादी ही गरीब है, क्योंकि जिले की जनसंख्या 18 से 20 लाख है। . एक परिवार में 4 सदस्य माना जाता है, ऐसे में राशन कार्ड की अभी जो संख्या है,उससे माना जा सकता है कि जिले की पूरी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन जी रहे है।

ये भी पढ़ें -खेल मंत्री का पुलिसकर्मी पर फूटा गुस्सा,वीडियो वायरल


साल 2013 में जिले में 5 लाख 29 हजार राशन कार्ड थे, आज यह संख्या 4 लाख 25 हजार है। खाद्य विभाग ने 2014 में जब विशेष सर्वे किया तो करीब 75 हजार लोगों के राशन कार्ड काटे गए थे। इसके बाद पलायन करने वाले, एक भी परिवार में कई राशन कार्ड को काटा गया. बाद में ऐसे गरीबों के राशन कार्ड भी काटे गए, जिन्होंने खुद को गरीब बताते हुए धान की बिक्री की थी। ऐसे लोग तब पकड़ में आए, जब आधार सीडिंग की गई. फिलहाल, खाद्य विभाग ने जिले में बीते 5 साल में 1 लाख 4 हजार लोगों के राशन कार्ड निरस्त किया है. माना यह भी जा रहा है कि जिन लोगों ने गरीब होने के बाद अधिक धान की बिक्री की है उनके राशन कार्ड इस साल भी काटे जाएंगे. खाद्य विभाग ने इस आशय का पोस्टर भी धान खरीदी केंद्रों में लगाया था।

Web Title : Janjgir still continues in fake rashan card, the whole population is poor

जरूर देखिये