CJI के खिलाफ आरोप, जस्टिस रमन ने खुद को किया जांच स​मिति से अलग

 Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 25 Apr 2019 07:09 PM, Updated On 25 Apr 2019 07:02 PM

नई दिल्ली: सु्प्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न की जांच के लिए गठित टीम से न्यायमूर्ति एनवी रमण ने अपना नाम वापस ले लिया है। बता दें मामले की जांच के लिए उच्चतम न्यायालय के दूसरे वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति बोबडे की अध्यक्षता में मंगलवार को इस समिति का गठन किया गया था और उन्होंने इसमे न्यायमूर्ति रमण और न्यायमूर्ति बनर्जी को शामिल किया था। साथ ही न्यायमूर्ति बनर्जी को महिला न्यायाधीश के रूप में शामिल किया है। वहीं, गोगोई पर आरोप लगाने वालनी महिला ने समिति में न्यायमूर्ति एन वी रमण को शामिल किये जाने पर अपनी आपत्ति व्यक्त की थी। महिला का कहना था कि न्यायमूर्ति रमण प्रधान न्यायाधीश के नजदीकी मित्र हैं और नियमित रूप से उनके आवास पर आते रहते हैं।

Read More: न्यायाधीशों ने चिलचिलाती गर्मी में सड़क पर लगाई मोबाइल कोर्ट, इस वजह से संभालनी पड़ी खुद कमान

गौरतलब है कि आरोप लगाने वाली महिला को न्यायालय ने शुक्रवार को समिति के सामने पेश होने का आदेश दिया था। महिला ने अपने पत्र में स​मिति पर सवाल उठाते हुए कहा था कि विशाखा प्रकरण के दिशानिर्देशों के अनुसार यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए गठित समिति में महिलाओं का बहुमत होना चाहिए। जांच के लिए गठीत समिति में शीर्ष अदालत की एक ही महिला न्यायाधीश न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी को शामिल किया गया है।

Read More: तीन ईनामी सहित 4 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण, कहा- खोखली नीतियों से थे परेशान

शिकायतकर्ता महिला ने अपने पत्र में यह भी लिखा था कि समिति के समक्ष पेश होते वक्त अपने साथ एक वकील लाने और समिति की कार्यवाही की वीडियो रिकार्डिंग का अनुरोध किया है ताकि जांच में जो कुछ भी हुआ उसके बारे में किसी प्रकार का विवाद नहीं हो। उच्चतम न्यायालय के दूसरे वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति बोबडे की अध्यक्षता में मंगलवार को इस समिति का गठन किया गया था और उन्होंने इसमे न्यायमूर्ति रमण और न्यायमूर्ति बनर्जी को शामिल किया था। न्यायमूर्ति बोबडे ने मंगलवार को पीटीआई भाषा से कहा था, ''मैंने न्यामयूर्ति रमण को समिति में शामिल करने का फैसला किया है क्योंकि वह वरिष्ठता में मेरे बाद है और न्यायमूर्ति बनर्जी को महिला न्यायाधीश के रूप में शामिल किया है।

दीजिए जवाब और जीतिए इनामआप सब से अनुरोध है इसे शेयर जरूर करें

Question 1 - देश का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा ?
Question 2 - देश में इस बार किसकी सरकार बनेगी ?
Question 3 - देश में किस पार्टी को मिलेगी बहुमत ?
Question 4 - चौकीदार का सियासी जुमला किसे फायदा पहुंचाएगा ?
Question 5 - छत्तीसगढ़ में सिटिंग सांसदों को बदलना बीजेपी के लिए फायदेमंद होगा ?
Question 6 - क्या छत्तीसगढ़ में कांग्रेस विस चुनाव वाला करिश्मा दोहरा पाएगी ?
Question 7 - क्या लोकसभा चुनाव में महागठबंधन असरदार होगा ?
Question 8 - क्या राफेल मुद्दे से कांग्रेस को फायदा पहुंचेगा ?
Question 9 - क्या एयर स्ट्राइक बीजेपी को चुनावी फायदा देगी ?
Question 10 - क्या इस बार वेस्ट बंगाल में बीजेपी कामयाब होगी ?
Question 11 - क्या राम मंदिर पर इस बार भी बीजेपी को वोट मिलेंगे ?
Question 12 - क्या कश्मीर के फ्रंट पर मोदी सरकार नाकाम रही है?
Question 13 - क्या आतंकवाद के खिलाफ मोदी सरकार की निति प्रभावी रही ?
Question 14 - क्या मप्र, छग, राजस्थान में बीजेपी का प्रदर्शन अच्छा रहेगा ?
Question 15 - क्या मध्य प्रदेश में बीजेपी प्रभावी प्रदर्शन करेगी ?
Question 16 -क्या दिग्विजय सिंह भोपाल का चुनाव जीत पाएंगे ?
Question 17- क्या छत्तीसगढ़ में इस बार मोदी लहर है ?
Question 18- क्या प्रियंका गाँधी कांग्रेस के लिए गुडलक साबित हो पाएंगी ?

Web Title : Justice NV Ramana Quit from Investigation Committee of CJI Ranjan gogoi case

जरूर देखिये