कल्पेश याग्निक खुदखुशी मामला: आरोपी सलोनी को मिली जमानत, दैहिक शोषण का आरोप लगाकर मांगे थे 5 करोड़

 Edited By: Rupesh Sahu

Published on 13 Mar 2019 06:18 PM, Updated On 13 Mar 2019 06:18 PM

इंदौर। वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक खुदखुशी मामले में आरोपी सलोनी अरोरा को जमानत मिल गई है। इंदौर हाईकोर्ट की जस्टिस रोहित आर्या की बेंच ने बुधवार को लंबी सुनवाई के बाद सलोनी को सशर्त जमानत दी। सुनवाई के दौरान इंदौर के एसपी और भोपाल के एफएसएल अधिकारी को मौजूद रहने को कहा गया था। दोपहर में लंबी बहस के बाद कोर्ट ने सलोनी की सशर्त जमानत मंजूर कर ली। आरोपी सलोनी को हर महीने दूसरे और चौथे शनिवार को संबंधित थाने में हाजिरी देना होगी । कल्पेश याग्निक मौत मामले में सलोनी पर खुदकुशी के लिए उकसाने काआरोप है। आरोपी सलोनी बीते करीब छह माह से जेल में कैद हैं।

ये भी पढ़ें- सतना में 5 वर्षीय मासूम का अपहरण और हत्या, आरोपी गिरफ्तार

वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक को झूठे मामले में फंसाने की धमकी देकर उन्हें खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में पुलिस ने उनकी एक पूर्व सहकर्मी के खिलाफ मामला दर्ज किया था। सलोनी अरोड़ा नाम की यह सहकर्मी मुंबई में कार्यरत है। इस महिला फिल्म पत्रकार के खिलाफ पुलिस ने धारा 503, 386, 67 आईटी एक्ट की धारा 306 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। आरोप के मुताबिक महिला पत्रकार सलोनी कल्पेश याग्निक से 5 करोड़ रुपये की मांग कर रही थी और रुपये न देने पर बलात्कार के आरोप में फंसाने की धमकी दे रही थी।

ये भी पढ़ें- बिजली का खंभा लगाकर लोगों को बिल भेज रहा था विभाग, जेई सस्पेंड, विभ...

आपको बता दें कि कल्पेश याग्निक प्रमुख हिन्दी अखबार दैनिक भास्कर के समूह संपादक थे। उन्होंने इस अखबार की इंदौर के एबी रोड स्थित तीन मंजिला इमारत की छत से 12 जुलाई की रात में छलांग लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। चौहान ने बताया कि यह महिला पत्रकार पहले याग्निक के अखबार में ही काम करती थी। आरोप है कि अखबार की नौकरी से निकाले जाने के बाद वह याग्निक को मानसिक तौर पर परेशान कर रही थी जिससे वह तनाव में चल रहे थे। उन्होंने बताया, "महिला पत्रकार को फिलहाल गिरफ्तार नहीं किया गया है। हम मामले की विस्तृत जांच कर रहे हैं।''

ये भी पढ़ें- हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, पति-पत्नी सेवारत जगहों पर करा सकेंगे तबादला...

जांच में सामने आया है कि सलोनी कॉल अटेंड नहीं करने पर कल्‍पेश को सेक्स स्कैंडल की वीडियो-ऑडियो यूट्यूब पर अपलोड करने की धमकी देती थी। इतना ही नहीं वो उन्‍हें व्‍हाट्सएप कर मानसिक दबाव बनाती थी। यह पर्दाफाश एमआइजी पुलिस की जांच में हुआ है। पुलिस ने पूरे घटनाक्रम की कडि़या जोड़ीं और परिजनों के बयान के बाद शुक्रवार को सलोनी के खिलाफ एफआइआर दर्ज की।

 

Web Title : Kalpesh Yagnik's self-doubt case Bail granted to Saloni,

जरूर देखिये