कर्नाटक का सियासी संकट : कुमारस्वामी को 17 जुलाई को साबित करना पड़ेगा बहुमत, विधायकों का इस्तीफा नामंजूर

 Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 10 Jul 2019 08:43 AM, Updated On 10 Jul 2019 08:43 AM

बेंगलुरू। हर दिन गहराते जा रहे कर्नाटक के सियासी संकट के बीच एक बड़ी खबर यह आ रही है कि विधानसभा अध्‍यक्ष केआर रमेश 17 जुलाई को एचडी कुमारस्‍वामी को बहुमत साबित करने का न्योता दे सकते हैं। इससे पहले रमेश ने मंंगलवार को जेडीएस के सभी 13 विधायकों के इस्‍तीफे स्वीकार करने से इनकार कर दिया।

read more : अतिक्रमण हटाने गए प्रशास​निक अमले और आदिवासियों के बीच गोलीबारी, 5 युवक घायल, मामले को दबाने में जुटा प्रशासन

विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार ने मंगलवार को कहा कि वह जो सही होगा, वही करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और जेडीएस के 14 विधायकों के इस्तीफे पर वह 'कठोर निर्णय' लेने को तैयार हैं। वह केवल दो लोगों की बात सुनेंगे, 'मेरे लोग और मेरे बाबा'। पिछले एक सप्ताह से कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार में मचे हंगामे के बीच अब काम पर लौटे विधानसभा अध्यक्ष का ये बयान काफी अहम माना जा रहा है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा, अब तक किसी भी विधायक ने मुझसे मिलने की मांग नहीं की है। अगर कोई मुझसे मिलना चाहता है, तो मैं अपने कार्यालय में उपलब्ध रहूंगा।'

read more : ट्रक से 644 पेटी अवैध शराब जब्त, गुजरात ले जाने की फिराक में थे आरोपी पुलिस ने दबोचा

वहीं दूसरी ओर कर्नाटक विधानसभा से इस्तीफा देने वाले विधायक मुंबई के एक होटेल में रुके हुए हैं। विधायकों के मनाने के लिए आ रहे कांग्रेस और जेडीएस नेताओं की खबर पाकर इन विधायकों ने मुंबई पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखकर खुद को खतरा जताया था। विधायकों की अपील पर होटेल के बाहर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। होटेल के बाहर राज्य रिजर्व पुलिस बल और रैपिड ऐक्शन फोर्स (आरएएफ) की टीमें तैनात कर दी गई हैं।

 

 

Web Title : Karnataka's political crisis: Kumaraswamy will have to prove majority on July 17, MLAs resignation rejects

जरूर देखिये