राष्ट्रीय उद्यान में फिर से तेंदुए की जहरखुरानी से मौत, वन्यजीवों के शिकार में स​क्रिय हैं शिकारी

Reported By: Chandresh Khare, Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 12 Jul 2019 07:04 AM, Updated On 12 Jul 2019 07:04 AM

मण्डला। जिले के विश्व प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान कान्हा में इन दिनों शिकारीयों का जमावड़ा है । आये दिन शिकारी दुर्लभ वन्य प्राणियों का शिकार कर रहे हैं जबकि पार्क प्रबंधन लापरवाह नजर आ रहा है। ताजा मामले में गुरूवार को नेशनल पार्क के बफर जोन खापा रेंज के सरेखा बीट में तेंदुए की जहर से मौत का मामला सामने आया है । तेंदुआ मादा है जिसकी उम्र 10 से 12 साल है।

read more : 5 बार की वर्ल्ड कप चैंपियन को अंग्रेजों ने सस्ते में निपटाया, 14 जुलाई को न्यूजीलैड के साथ होगी खिताबी भिड़ंत


इसके अलावा 2 दिन पूर्व भी सुपखार रेंज में एक मृत तेंदुआ मिला था जिसकी हालात संदिग्ध थी । जबकि 10 दिन पूर्व 2 बाइसन को पार्क के बफर जोन छेत्र मलूमझोला में जहर देकर मारा गया । पार्क में लगातार जहरखुरानी से वन्यजीवों की मौतें यह साबित करती है कि यंहा शिकारी सक्रिय है । पार्क में लगातार वन्य प्राणियों की मौतें और पार्क प्रबंधन का लापरवाह रवैया यह साबित करता है कि यदि ऐसे ही चलता रहा तो वह दिन दूर नही जब दुर्लभ वन्य जीवों से गुलजार राष्ट्रीय उद्यान कान्हा भी पन्ना और सरिस्का की तरह हो जाएगा ।

read more : भूपेश कैबिनेट का बड़ा फैसला, 168 नगरीय निकायों में शुरू किया जाएगा पौनी पसारी मार्केट, युवाओं को मिलेगा रोजगार का अवसर

गौरतलब है कि आज मारी गई मादा तेंदुआ ने एक बछड़े का शिकार किया था जिसके शरीर में जहर मिले होने की खबर है । चिंता की बात यह है की मृत मादा तेंदुआ वयस्क है और हो सकता है कि उसके शावक भी उसके साथ जिन्होंने भी शिकार खाया हो । फिलहाल सूत्रों की माने तो पार्क प्रबंधन में अफरातफरी है और वह सर्चिंग पर जुटे हुए है्ं।

Web Title : Leopard poison death again in national park

जरूर देखिये