बीजेपी के गढ़ जबलपुर में होगी ‘कांटे की टक्कर’ ! देखिए क्या कहती हैं बीजेपी-कांग्रेस की चुनावी तैयारियां

 Edited By: Arjun Bartwal

Published on 17 Apr 2019 04:01 PM, Updated On 17 Apr 2019 04:12 PM

रायपुर| ‘कांटे की टक्कर’ कार्यक्रम के माध्यम से IBC24  अलग-अलग लोकसभा क्षेत्रों में प्रत्याशियों के बीच के टकराव का आंकलन कर रहा है। आप हमारे इस कार्यक्रम में देख पाएंगे कि आखिर अपने-अपने लोकसभा क्षेत्रों में प्रत्याशियों की चुनाव जीतने को लेकर तैयारियां कैसी हैं। साथ ही हम क्षेत्र के सियासी माहौल और अभी तक के राजनीतिक इतिहास पर भी नजर डालेंगे।

जबलपुर लोकसभा सीट
कांटे की टक्कर में आज बात करेंगे मध्य प्रदेश की जबलपुर सीट की! मध्य प्रदेश की जबलपुर लोकसभा सीट भाजपा का गढ़ मानी जाती है, इस सीट पर 2004 से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह सांसद हैं, और उन्होंने हर बार ज्यादा सीटों से जीत दर्ज की है। जबलपुर लोकसभा सीट 23 साल से लगातार बीजेपी के पाले में है। आजादी के बाद 1951 से लेकर 1974 तक इस सीट पर कांग्रेस परचम लहराती रही। इसके बाद यहां के मतदाता निरंतर बदलाव करते रहे, लेकिन 1996 से जबलपुर के मतदाताओं ने बदलाव पसंद नहीं किया, औऱ बीजेपी लगातार यहां से जीत दर्ज करती रही।

लोकसभा चुनाव 2019 में जबलपुर लोकसभा सीट की लड़ाई काफी अहम है, क्योंकि इस सीट से भाजपा के प्रत्याशी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह हैं। ऐसे में प्रदेश अध्यक्ष सीट को बचाना भाजपा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। साथ ही 23 से जबलपुर में बीजेपी की लगर को बरकरार रखाना भी बड़ी जिम्मेदारी है।

कांग्रेस प्रत्याशी

जबलपुर से कांग्रेस के प्रत्याशी हैं विवेक तंखा, विवेक तन्खा सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता हैं और 2016 से राज्यसभा के सदस्य हैं। तन्खा मेमोरियल ट्रस्ट, रोटरी क्लब के माध्यम से शिक्षा, स्वास्थ्य व रोजगार के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। राजनीति की बात की जाए तो प्रदेश एवं देश की राजनीति में उनका अच्छा-खासा दखल है, साथ ही बड़े निर्णयों में रहती है भूमिका रहती है। साल 2014  में बीजेपी के राकेश सिंह से 2 लाख 8 हजार वोटों से चुनाव हारे थे।

बीजेपी के प्रत्याशी

जबलपुर लोकसभा सीट से भाजपा ने लगातार तीन बार के सांसद राकेश सिंह को एकबार फिर प्रत्याशी बनाया है। राकेश सिंह 2000 में जबलपुर भाजपा के जिलाध्यक्ष बने थे, इसके बाद अपनी काबिलियत के आधार पर पार्टी में जगह बनाते गए। 2004 में भाजपा ने उन्हें जबलपुर से लोकसभा प्रत्याशी बनाया गया। इस चुनाव में शानदार जीत हासिल कर संसद पहुंचे राकेश सिंह ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। 2009 और फिर 2014 में जबलपुर से सांसद चुने गए। राकेश सिंह संसद की कई महत्वपूर्ण कमेटियों के सदस्य हैं। इस समय राकेश भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं।

कुल मतदाता (2014 में)     17,02,794 
महिला मतदाता                 7,95,482 
पुरुष मतदाता                   9,07,312
2014 में वोट प्रतिशत     51.36  फीसदी

ये वीडियो देखिए और शेयर करिए 

Web Title : LokSabha Elections 2019 : Kante Ki Takkar, Jabalpur lok sabha Constituency

जरूर देखिये