'एक देश एक चुनाव' पर मायावती का प्रहार, कहा- जनता का ध्यान बांटने के लिए ये एक छलावा है

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 19 Jun 2019 01:20 PM, Updated On 19 Jun 2019 01:20 PM

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 'एक राष्ट्र, एक चुनाव' को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने मोदी सरकार के प्रस्ताव का विरोध करते हुए 'एक देश एक चुनाव' फार्मूले को गरीबी एवं अन्य समस्याओं से ध्यान हटाने के लिए किया जा रहा छलावा कहा है।

ये भी पढ़ें: बीजेपी के सदस्यता अभियान को लेकर VC के जरिए चर्चा, पूर्व सीएम सभी राज्यों के 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि, 'किसी भी लोकतांत्रिक देश में चुनाव कभी कोई समस्या नहीं हो सकता और न ही चुनाव को कभी धन के व्यय-अपव्यय से तौलना उचित है। देश में एक देश, एक चुनाव की बात वास्तव में गरीबी, महंगाई, बेरोजबारी, बढ़ती हिंसा जैसी ज्वलन्त राष्ट्रीय समस्याओं से ध्यान बांटने का प्रयास और छलावा मात्र है'।


ये भी पढ़ें: रेंजर के खिलाफ फूटा लिपिक कर्मचारियों का गुस्सा, अभ्रदता के खिलाफ सस्पेंड करने की रखी मांग

बता दे कि बसपा सुप्रीमो ने ईवीएम के जरिए से चुनाव कराने को भी लोकतंत्र का असली खतरा कहा है। मायावती ने 'एक देश एक चुनाव के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुधवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भी बसपा के शामिल नहीं होने का स्पष्ट संकेत जाहिर किए हैं।

Web Title : Mayawati's attack on 'one country one election', said- It is a mimicry to distribute the public's attention.

जरूर देखिये