विधायक ने श्रम निरीक्षक को दी धमकी, 'बैतूल भिजवा दूंगा'

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 05 Apr 2019 06:57 AM, Updated On 05 Apr 2019 04:13 PM

ग्वालियर। चाइल्ड लेबर रोकने को लेकर अदालत कई बार निर्देश जारी कर चुका है। चाइल्ड लेबर करवाने वालों को सख्त सजा दिए जाने का प्रावधान भी है। लेकिन चाइल्ड लेबर इसके बावजूद थमा नहीं है। मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में नाबालिग बच्चों से काम कराने का मामला सामने है। दरअसल 2 नाबालिग बच्चों से दुकान में काम कराया जा रहा था। जिसको लेकर श्रम विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई करने पहुंच गई।

ये भी पढ़ें:NCP चीफ शरद पवार ने पीएम मोदी पर किया पलटवार, कहा- मुझसे पंगा मत लो

लेकिन बीच बचाव करने दक्षिण विधानसभा से विधायक प्रवीण पाठक दुकानदार का पक्ष रखने के लिए श्रम विभाग की टीम को धमकी तक दे दी, श्रम विभाग की टीम ने विधायक पर आरोप लगाया है कि विधायक का कहना है कि अगर बच्चों को नहीं छोड़ा जाएगा तो बैतूल भेज दिया जाएगा। लिहाजा श्रम निरीक्षक ने विधायक के खिलाफ काम में अवरोध डालने की शिकायत थाना में दर्ज कराई है।

ये भी पढ़ें:भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवानी के ब्लॉग पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर कही 

गौरतलब है कि नाबालिग बच्चों से काम कराना अपराध है इसके बावजूद शहर के दुकानदार आए दिन ऐसी लापरवाही करते हैं। बता दें कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों से काम कराया जाना अपराध है। ऐसी स्थिति में 3 साल तक कैद की सजा का प्रावधान किया गया है। वहीं अगर 14 साल से कम उम्र के बच्चों से काम लिए जाते हैं तो वह चाइल्ड लेबर ऐक्ट के तहत जुर्म है। इसके लिए दोषी पाए जाने पर 1 साल तक कैद और 10 हजार से 20 हजार रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है।

 

Web Title : MLA threatens Labor inspector,'Betul will send'

जरूर देखिये