mla vs mayor in durg | महापौर vs विधायक: शिकायत पहुंची मंत्री के पास

महापौर vs विधायक: शिकायत पहुंची मंत्री के पास

Reported By: Akash Rao, Edited By: Renu Nandi

Published on 09 Mar 2019 07:02 PM, Updated On 09 Mar 2019 07:02 PM

दुर्ग। चुनाव का मौसम पास आते ही भूमिपूजन और लोकार्पण की बाढ़ सी आ जाती है। नेता अपने राजनितिक पार्टी को लाभ पहुचाने श्रेय लेने के लिए खुद का किया हुआ कार्य बताने की होड़ में लग जाते हैं। कुछ ऐसा ही माजरा दुर्ग में देखा जा रहा है। जहां दुर्ग शहर विधायक कांग्रेस से है तो दुर्ग नगर निगम की महापौर भाजपा से है।ऐसे में शहर विकास में किये गए कार्यो को लेकर दोनो के बीच की खीचतान जग जाहिर है।
ये भी पढ़ें -मालगाड़ी से 1,000 किलो विस्फोटक जब्त, ड्राइवर और हेल्पर गिरफ्तार


इस खीचतान के बीच बिना विधायक को जानकारी दिए उनकी गैरहाजरी में वार्ड 45 में अमृत मिशन के तहत बने एक गार्डन का लोकार्पण महापौर चन्द्रिका चंद्राकर ने कर डाला जिससे विधायक अरुण वोरा नाराज हो गये। इस बात से नाराज अरुण वोरा ने प्रदेश के नगरीय निकाय मंत्री से इस बात की शिकायत भी कर दी है। हालाकि विधायक का नाम लोकार्पण पट्टिका में विशेष अतिथि के तौर पर जरुर दर्ज है। लेकिन लोकार्पण कार्यक्रम में कांग्रेस का एक भी पार्षद नहीं पहुचा वही कार्यक्रम को विधायक के आने के बाद किये जाने का आदेश निगम आयुक्त ने दिया था।
ये भी पढ़ें -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नारी शक्ति पुरस्कार पाने वाली सभी महिलाओं से 

इस विषय में निगम महापौर ने कार्यक्रम के समय को आगे बढाकर विधायक के आने तक रुकने से नाराज होकर कहा की मैंने विधायक को जानकारी देने फोन किया था लेकिन मेरी बात नहीं हुई निगम कि सरकार मैं हूं इसलिए मुझे पता है आयुक्त लोकार्पण को रोक नहीं सकता।
ये भी पढ़ें -राहुल गांधी का पीएम मोदी से सवाल, पूछा- मसूद अजहर को किसकी सरकार ने किया ​था 

इस विषय में चन्द्रिका चंद्राकर,महापौर,दुर्ग का कहना है कि नगरं निगम में अमृत मिशन के तहत 145 करोड़ की लागत से कार्य चल रहा है। जिसके तहत इस गार्डन का भी निर्माण लगभग 80 लाख की लागत से किया गया है। विधायक की माने तो उन्होंने इस कार्य की मंजूरी के लिए काफी प्रयास किया था वही जब लोकार्पण का समय आया तो भाजपा श्रेय लेने लोकार्पण कर रहेहै। वहीं इस विषय में विधायक का कहना है उन्होंने अब तक शहर की जनता के लिए कार्य किया है थोडा दुःख तो है लेकिन निगम प्रशासन को चाहिए की सामूहिक रूप से कार्य करने पर कम से कम आमंत्रित किया जाना चाहिए।

Web Title : mla vs mayor in durg

जरूर देखिये