इमरान हाशमी को ले डूबेगी 'चीट इंडिया'

 Edited By: Renu Nandi

Published on 19 Jan 2019 02:37 PM, Updated On 19 Jan 2019 02:34 PM

मुंबई। इमरान हाशमी काफी वक्त के बाद फिल्मी पर्दे पर वापसी कर रहे हैं अपनी फिल्म वाय चीट इंडिया के जरिए।शुक्रवार को इस फिल्म के साथ ही साथ तीन और फिल्में फ्रॉड सैंया, रंगीला राजा और बांबेरिया भी रिलीज हुई है।

डायरेक्टर सौमिक सेन की फिल्म की कहानी राकेश शर्मा यानी रॉकी की है जो ऐसे बच्चों को सिलेक्ट करता है जो एक बार में किसी भी इनटरेंस एग्जाम निकालने में माहिर है। क्योंकि रॉकी का कारोबार है मुन्नाभाई बनाना। रॉकी अमीर पेरेंट्स से पैसा लेकर उनके नालायक बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर और दूसरी ब्रांच में एडमिशन दिलाने और फर्जी डिग्री दिलाने का काम करता है। उसके इस खेल में शिक्षा प्रणाली के कई लोग उसके साथ जुड़े होते हैं जो उसके मुन्नाभाई रैकेट चलाने में मदद करते हैं और करोड़ो कमाते हैं। और वो एक बड़ा दांव खेलेने की तैयारी में रहता है जिससे उसे करोड़ों की कमाई होने वाली थी। लेकिन रॉकी को झटका उस वक्त लगता है जब उसका एक मुन्नाभाई सत्तू(स्निग्ध चर्टजी) विदेश में नौकरी करते हुए रिजेक्ट हो जाता है क्योंकि उसकी डिग्रीफर्जी पाई जाती है। अब रॉकी के करोड़पति बनने के सपने को कैसे सच करता है और वो इस मुन्नाभाई के खेल को कैसे चलता है ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।
फिल्म में इमरान हाशमी ने अपनी शानदार एक्टिंग की है लेकिन फिल्म की कहानी काफी लंबी है जो वक्त के साथ बोरिंग हो जाती है फिल्म का सब्जेक्ट बहुत शानदार है सही माने तो इसी कहानी में अगर अक्षय कुमार ये कोई दूसरा कलाकार होता तो ऑडियन्स जोड़ सकता था. जैसे अक्षय कुमार अजयदेवगन राजकुमार राव या फिर आयुष्मान खुराना.लेकिन ऐसा नहीं है इमरान ने बढ़िया काम नहीं किया.उन्होंने अपने रॉकी राकेश के रोल को बेहतरीन निभाया है और सबसे अच्छी बात फिल्म में एजुकेशन सिस्टम के अंदर जो भ्रष्टाचार होता है उसकी पोल खोली है वो देखने लायक है और यहां उन अमीर पेरेंट्स को सबक सिखाया जो अपने बच्चों को पास कराने के लिए ऐसे मुन्नाभाईओं पर भरोसा करते हैं और बाद में बड़ी मुसीबत में फंस जाते। हैं।
मेरी तरफ से इस 2/5स्टार


अब बात करते हैं अरशद वासरी की फ्रॉड सैंया की
डायरेक्टर सौरभ श्रीवास्तव की ये फिल्म कॉमेडी से भरपूर है इस फिल्म में अरशद वारसी एक चोर की भूमिका में हैं जो अमीर लड़कियों को अपने प्रेम के जाल में फंसाता है और उसकी संपत्ति हड़पने का काम करता है इसमें वो लड़कियों को झूठी और इमोशनल कहानी बताकर बहकाता है एक शब्द में कहें तो उनका किरदार लूटेरे दूल्हे का है जो अमीर दुल्हन को शादी का झांसा देकर लूटता है।
लेकिन भोला कुमार की लाइफ में ट्विस्ट तब आता है जब कुछ लड़कियों को भोला की साजिशों का पता चलगा है आगे क्या होता है ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

 

अगर आप ना भी देखें तो चलेगा क्योंकि फिल्म में कुछ नया नहीं ऐसी कहानियां हम पहले भी देख चुके हैं अरशद वारसी की वही पुरानी कॉमेडी और एमी जैक्सन जिन्हें हिंदी बोलनी नहीं आती सिर्फ खूबसूरती का तड़का लगाने के लिए हैं सौरभ शुक्ला भी फिल्म में काफी लंबे वक्त के बाद नजर आए हैं..कुल मिलाकर येफिल्म बेस्ट ऑफ टाइम है 1.5/5 स्टार

Web Title : MOVIE REVIEW:

जरूर देखिये