अजय देवगन ने कर दी गलती 'दे दे प्यार दे' करके

Reported By: Neelam Ahiwar, Edited By: Renu Nandi

Published on 18 May 2019 05:40 PM, Updated On 18 May 2019 05:40 PM

मुंबई। फरवरी में अजय देवगन टोटल धमाल जैसी फिल्म लेकर आए थे। उसके बाद उनकी दूसरी फिल्म ''दे दे प्यार दे'' रिलीज हुई है। फिल्म का डायरेक्शन अकील अली ने किया है और राइटर हैं प्यार का पंचनामा सीरीज के डायरेक्टर लव रंजन। फिल्म में लीड रोल में अजय देवगन, रकुल प्रीत और तब्बू है साथी कलाकार में जावेद जाफरी, आलोक नाथ औऱ जिम्मी शेरगिल नजर आ रहे हैं।फिल्म की कहानी लंदन में रहने वाले बिजनेसमैन आशीष (अजय देवगन) की है जो अपनी फैमिली से सेपरेट रहता है वो अपने एक दोस्त के लिए पार्टी रखता है जहां आएशा (रकुल प्रीत) डांसर बनकर पहुंची हैं आएशा को आशीष से प्यार हो जाता है दोनों के बीच ऐज गैप है आशीष 50 साल का है तो आएशा 26 साल की, फिर भी दोनों की लवस्टोरी आगे बढ़ती है फिर आशीष आएशा को अपनी फैमिली यानि दोनों बच्चों, माता-पिता और अपनी पत्नी मंजू (तब्बू) से मिलने के लिए इंडिया लेकर जाता है। जिन्हें 17 साल पहले वो छोड़ चुका है सिचवेशन ऐसी बनती है कि सभी एक ही घर में रुकते हैं यहां फैमिली ड्रामा चलता हैऔर फिर आशीष उसकी बेटी की उम्र की लड़की के प्यार में है ये बात क्या वो अपनी पत्नी मंजू को बता पाता है, आगे मंजू आएशा और आशीष की लाइफ में क्या होता है ये आपको फिल्म देखने के बाद पता चलेगा।

 

फिल्म का कॉन्सेप्ट अच्छा है मेट्रो सिटीज़ में अक्सर ऐसे केस देखने को मिल जाते हैं लेकिन इस फिल्म में रिश्तों का मजाक बनाया गया, खासतौर कर एक सीन जहां मंजू (तब्बू ) एक वक्त अपने पति आशीष (अजय देवगन) को राखी बांध देती है और थोड़ी देर बाद दूसरे ही सीन में दोनों के बीच एक इंटीमेट सीन फिल्माया जाता है। ये बहुत गलत प्रभाव डालता है ऐसे में तो आपने रिश्तों की गरीमा को ही खत्म कर दिया, कोई भी पत्नी अपने पति को राखी नहीं बांध सकती, लेकिन फिल्म एक पत्नी अपने पति को अपने ही बच्चों का मामा बनाती है और फिर दूसरे सीन में दोनों के बीच इंटीमेसी दिखाई जाती है.


वहीं अगर बात की जाए दूसरी खामियों की तो फिल्म का पहला पार्ट स्लो है और सेकेंड हाफ में डायरेक्टर ये सोचता है कि जो रायता उसने फैलाया है उसे समेटे कैसे ? और इसी लिहाज से कहानी आगे बढ़ती है जिन पर युवा जनरेशन के लोग ठहाके मार मार के हंसते हैं। यहां फिल्म में तब्बू और रकुल प्रीत की एक्टिंग शानदार है जिम्मी शेरगिल अपने छोटे से रोल में छा गए हैं जावेद जाफरी भी कमाल के लगे हैं लेकिन इस बार तब्बू सबपर भारी पड़ी हैं.फिल्म की लचर कहानी इसे बोरिंग और बोझिल बनाती है हालांकि फिल्म में एक अच्छा मेसेज भी है कि अगर एक रिश्ता ना संभले तो उसे तोड़ दो झेलो मत ये फिल्म किसी एक ऐज ग्रुप को पसंद आ सकती है वैसे अगर आप अजय देवगन के बहुत बड़े फैन है और कॉमेडी फिल्म देखना चाहते हैं फैमिली तो मैं इसे बोलूंगी नहीं क्योंकि फैमिली में बच्चे भी होते हैं तो ही अपने पैसे खराब कीजिएगा....मेरी तरफ से इस फिल्म को 2 स्टार/5

Web Title : movie review de de pyar de

जरूर देखिये