राष्ट्रीय कैंसर जागरुकता दिवस–सिर्फ सतर्कता ही है कैंसर को हराने का मंत्र 

Reported By: Aman Verma, Edited By: Aman Verma

Published on 06 Nov 2017 06:09 PM, Updated On 06 Nov 2017 06:09 PM

रायपुर। कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिससे विश्वभर में सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। विश्व में इस बीमारी की चपेट में सबसे अधिक मरीज हैं और तमाम प्रयासों के बावजूद कैंसर के मरीजों की संख्या में कोई कमी नहीं आ रही है। कैंसर को भारत समेत समूची दुनिया में एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या के रुप में जाना जाता है।

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, कहा खाली करो सिंहासन

बदलते दौर और आधुनिक जीवन प्रणाली ने मनुष्य को इतना व्यस्त बना दिया है कि हम अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह होते जा रहे हैं। हमारे रहन-सहन और खाने-पीने में इतने ज्यादा बदलाव होते जा रहे हैं कि हम कब किसी बीमारी से ग्रस्त हो जाएं पाता नहीं लेकिन जब तक पता चलता है, तब तक उस बीमारी का नाम बदल जाता है और वह बीमारी बन जाती है कैंसर। अगर कैंसर को शुरुआती चरण में पकड़ लिया जाए तो उस पर काबू पाया जा सकता है। ये असंभव नहीं है, लेकिन इसके लिए हर आम आदमी को जागरुक रहने और दूसरों को जागरुक करने की जरुरत है। 

ऐसा क्या बोल गए नरेंद्र मोदी की भावुक हो गए उनके गुरू ?

भारत में करीब 10 लाख लोग हर साल कैंसर से पीड़ित हो जाते हैं। करीब 6 से 7 लाख लोग कैंसर से जान गंवा रहे हैं। कैंसर का मुख्य कारण सिगरेट, तम्बाकू, शराब का सेवन है। 100 में से 40 कैंसर के रोगी सिगरेट व तम्बाकू का सेवन करने वाले पाये जाते हैं। 

भोपाल गैंगरेप : फरार आरोपी पर 10 हजार का इनाम

इसके अलावा महिलाओं में गर्भाशय व स्तन कैंसर के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। महिलाओं में बढ़ रहे स्तन कैंसर को लेकर भी समय –समय पर व्यापक स्तर पर जागरुकता अभियान चलाए जाते हैं। महिलाओं में ये देखा जाता है कि वे परिवार के लिए तो समय निकालती हैं लेकिन अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग नहीं रहती हैं। स्वास्थ्य के लिए समय देना बहुत जरुरी है। कैंसर पीड़ित महिलाओं के ज्यादातर केस में ये पाया गया है कि वो समय पर जांच नहीं कराने, बीमारी छिपाने जैसी वजहों से इसकी शिकार बनीं और प्रथम चरण में इस बीमारी का पता ही नहीं चल सका।

उपचुनाव की गहमागहमी से मध्यप्रदेश की राजधानी बना चित्रकूट

महिलाओं में इस लापरवाही का मुख्य कारण जागरूकता का अभाव है, इसलिए आज पूरे देश में कैंसर के कारणों और उसके लिए उपलब्ध इलाज की जानकारी दी जा रही है। आम लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करने के मकसद से प्रत्येक वर्ष 7 नवंबर को राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस मनाया जाता है। इसी जागरुकता के लिए हर साल 4 फ़रवरी को विश्व कैंसर दिवस भी मनाया जाता है। विश्व कैंसर दिवस पर दुनिया भर में जागरुकता का संदेश देने के लिए हर साल एक विशेष थीम रखी जाती है। 

 

विश्व कैंसर दिवस पर पिछले कुछ सालों की थीम इस प्रकार है-

2016-18 के विश्व कैंसर दिवस की थीम है “हम कर सकते हैं। मैं कर सकता हूं।”

2015 के विश्व कैंसर दिवस की थीम “हमारे सीमाओं के बाहर नहीं है”।

2014 के विश्व कैंसर दिवस की थीम “मिथकों का भंडाफोड़ करना”।

2013 के विश्व कैंसर दिवस की थीम “कैंसर- क्या आप जानते थे ?”

2012 के विश्व कैंसर दिवस की थीम “एकसाथ ये मुमकिन है”।

 

अर्जुन सिंह, IBC24 वेब डेस्क

Web Title : NATIONAL CANCER AWARENESS DAY - ONLY CAUTIONS IS THE MANTRA TO DEFEAT CANCER

जरूर देखिये