मां जैसी कोई नही : मौत के बाद भी थाम रखा था मासूम का हाथ, दोनों के शव देखकर बचावकर्मी भी रो पड़े

 Edited By: Anil Kumar Shukla

Published on 13 Aug 2019 07:14 AM, Updated On 13 Aug 2019 01:03 PM

नईदिल्ली। केरल में बाढ़ में बाढ़ की वजह से कोहराम मचा हुआ है। बीते पांच दिनों के बीच बाढ़ की वजह से 76 लोगों की मौत हो गई है, वहीं, 58 लोग अभी भी लापता हैं। इसके अलावा 32 लोग घायल हुए हैं। भूस्‍खलन की वजह से भी कई लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। इस बीच केरल के कोट्टाकुन्नू में एक ऐसा दृश्य देखने को मिला इसे जिसने भी देखा खुद के आंसू नही रोक पाया।

read more : एक और सांसद का विवादित बयान, कहा- 100वें स्वतंत्रता दिवस पर भारत का हिस्सा नहीं होगा कश्मीर

बता दें कि कोट्टाकुन्नू में दो दिन पहले भयंकर बाढ़ आई थी और भीषण भूस्खलन हुआ था। जहां राहत कार्य में लगे कर्मचारियों को महिला और उसके बच्चे का शव मिला। मृत मां ने अपने कलेजे के टुकड़े के हाथ को कसकर पकड़ रखा था। मां और बेटे के मृत शरीर का ये दृश्य देखकर बचावकर्मी भी बिलख पड़े। मां ने बच्‍चे का हाथ इतना कस कर पकड़ा हुआ था कि मौत के बाद भी उसे छुड़ा पाना मुश्किल हो गया था।

read more : दिल्ली एयरपोर्ट पर बम की सूचना, सुरक्षा एजेंसियों ने स्वतंत्रता दिवस पर आतं​की हमले को लेकर किया था अलर्ट

गीतू नामक यह महिला अपने डेढ़ साल के बेटे ध्रुव का हाथ थामे हुए अचानक बाढ़ और भूस्खलन की चपेट में आ गई। कई घंटे के तलाश अभियान के बाद रविवार को बचावकर्मियों ने सरत की पत्नी गीतू और उसके बच्चे का शव बरामद किया। वहां मौजूद लोगों और बचावकर्मियों के लिए यह दृश्य देखना बहुत ही दुखदायक था। मां और बच्चा कीचड़ में दबे थे और दोनों ने एक-दूसरे का हाथ थाम रखा था। इस घटना में सरत बच गया। हालांकि, सोमवार को उसकी मां सरोजिनी का भी शव बरामद कर लिया गया। यह परिवार मलप्पुरम के कोट्टाकुन्नू में किराए के मकान में रहता था।

read more : नक्सलियों ने यात्री बस को किया आग के हवाले, सभी यात्रियों का मोबाइल लूटकर हुए फरार

गौरतलब है कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और गुजरात में बाढ़ के हालात गंभीर बने हुए हैं। इन राज्यों में अब तक 200 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है और 10 लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं। वहीं रविवार को गृह मंत्री अमित शाह ने कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे किया।

Web Title : No one like the mother: Even after death, the hand of the innocent was held, seeing the dead bodies of both, the rescuers also cried.

जरूर देखिये